loading...

सगी दीदी मुझसे जबरजस्ती छुड़वाई अपनी चुत और

Hindi Sex kahani, desi kahani, chudai ki kahani, antarvasna, indian sex stories

यारों मेरा नाम राजू हैं, आज मैं आपको अपनी एक सेक्स कहानी जो किसी और की नहीं बल्कि मेरी बहन रेशमा दीदी का ही हैं,

यारों पहले तो मुझे लग रहा था की मैं ये कहानी किसी और को नहीं बताऊँ पर मेरा मन नहीं मान रहा था, मेरे अंदर ये बात काटे खा रहा था की क्या मैं सही कर रहा हु क्या मैं गलत कर रहा हु, मैं अपने दिल का बोझ ख़तम करने के लिए आप लोगो को सामने अपनी कहानी नॉनवेज स्टोरी के माध्यम से इस वेबसाइट पर डाल रहा हु, ताकि मैं अपने दिल का बोझ हल्का कर सकूँ, यारों अब मैं सीधे कहानी पर आता हु,

मैं मध्यप्रदेश के एक छोटे से शहर में रहता हु, मैं आपको शहर का नाम नहीं बताऊंगा क्यों की मैं अपनी पहचान जाहिर नहीं करना चाहता, मेरे घर में मैं मेरी बहन रेशमा दीदी मेरे पापा और मेरी माँ हैं। पापा को ढाबा हैं जीटी रोड पर वो अक्सर ढाबा में ही रहते हैं और वही सोते हैं। ये जो चुदाई की शुरुआत हैं वो तब की हैं जब मेरी माँ नानी घर गयी थी क्यों की नानी की तबियत ख़राब थी, हम घर में दोनों भाई बहन थे, मैं 12 साल का हु और मेरी बहन 26 साल की हैं। उसके लिए काफी लड़का ढूढ़ रहे हैं पर अभी तक कोई काबिल नहीं मिला हैं। जब से उसके लिए लड़का ढूंढने का काम शुरू हुआ था तब से वो ना जाने किस ख्वाब में रहने लगी, देर रात तक जागती, कभी कभी उसका पलंग से आवाज आने लगता, मैंने धीरे धीरे नोटिस करना चालू किया की वो आखिर रात में करती क्या हैं की जोर जोर से पलंग हिलता और आवाज आती। मुझे ऐसा लगने लगा की वो शायद अपने चूत में कुछ डालती हैं और थोड़े देर में शांत होती हैं और फिर सो जाती हैं।

ये सारे कारनामा हम रोज रोज देखते थे, क्यों की हम दोनों एक ही कमरे में सोते थे, पर अलग अलग पलंग पर सोते थे, कुछ दिन बाद मैंने नोटिस किया की वो रात में अपनी पेंटी और ब्रा खोल कर सोने लगी। क्यों की उसकी चूचियां साफ़ साफ़ नजर आती थी उसकी नाईटी से, बड़ी बड़ी सॉलिड सॉलिड, यारों मेरा भी मन ख़राब होने लगा, अपनी बहन की इस हरकत से, हैं भी बहूत ही हॉट, रेशमा दीदी की साइज 36-24-36 हैं, यारों किसी का भी दिमाग ख़राब हो जाये उसके चूतड़ को पीछे से देखकर और आगे से उनकी चूचियों को देखकर, बड़े बड़े लंबे लंबे बाल गुलाबी होठ, लंबी और गोरी जबरदस्त दिखती हैं। जब वो काजल और होठ को गुलाबी रंग से रंगती हैं तब तो वो सेक्स की देबि लगती हैं।

यारों ऐसे ही दिन बीतने लगा। मैं भी रात में मजे लेने लगी। अब मैं भी अपनी आँख अपनी बहन को देखकर सेकने लगा। उस दिन की बात हैं जब माँ नानी के यहाँ गई थी। रात के करीब ११ बजे थे गर्मी का दिन था। वो हल्का सा बेडशीट ओढे थी। मैं सोने का नाटक करने लगा। तभी फिर से उसका पलंग हिलने लगा। फिर करीब दस मिनट में ही शांत हो गई। मैं समझ गया की मेरी दीदी आज भी अपने चूत में शायद बैगन पेल रही हैं। तभी वो उठी, उसकी चुचिया साफ़ साफ़ टाइट दिख रही थी। निप्पल भी साफ़ साफ़ दिखाई दे रहा था। जब वो उठी और बाथरूम के तरफ जाने लगी। उसकी चूतड़ हिलोरे मारते हुए चलने लगी। गजब की लग रही थी बाल निचे तक थे खुला हुआ, मैं तो मर गया यारों, मेरा लंड खड़ा हो गया, ऐसा लग रहा था की मैं चोद दू,

तभी वो वापस आने लगी। मैं चुपचापहो गया, शांत हो गया पर मेरा लंड शांत नहीं था, वो तम्बू बना कर खड़ा था। रेशमा दीदी जैसे ही आई बोली राजू तुम जाग रहे हो। मैं कुछ भी नहीं बोला, वो फिर से बोली तू जाग रहे हो। मैं फिर भी चुप था। उसने फिर से कहा मैं सब समझ रही हु, तुम क्या देख रहे थे, तुम्हे शर्म नहीं आई एक जवान बहन को रात में ऐसे घूरते हुए। मैंने जाग गया, मैं डर गया था की पता नहीं वो माँ से तो नहीं कह देगी, तभी वो मेरे पलंग पर बैठ गई और मेरा लौड़ा पकड़ ली। मेरा लौड़ा काफी मोटा और तना हुआ था। वो भी ये हैं सबूत मुझे घूरने का, मैंने कहा सॉरी दीदी, गलती हो गई अब ऐसा नहीं होगा।

वो मेरे ऊपर चढ़ गई। और मेरा पेंटी निचे कर दिया। और मेरे लंड को पकड़ कर बोली, इसका कीमत तुम्हे चुकानी पड़ेगी। मैंने कहा कैसी कीमत, उसने अपने सारे कपडे उतार दिए, यारों पहले तो मेरा लंड थोड़ा डर से छोटा भी हो गया था पर, जैसे उसने कपडे उतारी, मेरा लंड तो और भी मोटा और लंबा हो गया, मैंने कहा ये क्या कर रही हो दीदी मैंने तुम्हारा भाई हु, तो वो बोली जब भाई बहन की चूचियां और गांड को घूर रहा हो तब वो भाई नहीं बचता हैं। वो बॉय फ्रेंड हो जाता हैं। मैंने कहा पर मैं ऐसा कुछ भी नहीं करूँगा, तो वो बोली नहीं कर देख मैं क्या करती हु, मैं माँ और पापा को बोलूंगी की जब मैं सो रही थी तब तुम मेरे प्राइवेट पार्ट को सहला रहा था। यारों मैं डर गया, बहूत ही ज्यादा डर गया।

loading...

ये कहानी आप सेक्स कहानी हिंदी डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं।

उसने कहा जैसा मैं कहती हु, वैसा कर मैं कुछ भी नही बोलूंगी और मेरी दीदी मेरे लंड को अपने मुह में लेके चूसने लगी। धीरे थोड़े देर बाद वो ऊपर आ गई और मेरे ऊपर चढ़ गई और मेरे होठ को चूसने लगी। यारों मैं बहूत ही ज्यादा कामुक हो गया था। और जब वो अपनी चूचियां मेरे मुह में दी। और बोली ले चूस, मैं अपने बहन की चूचियों को चूसने लगा, मेरे तन बदन में आग लग गई। और मैंने जोर जोर से अपनी बहन की चुचिओं को पिने लगा और दबाने लगा। थोड़े देर बाद वो मेरे मुह के पास बैठ गई उसके चूत मेरे मुह के पास था। उसने कहा मेरे चूत की पानी को अपने जीभ से साफ़ कर और पि जा।

यारों मैंने अपने बहन की चूत को चाटने लगा। वो अपने चूत से नमकीन पानी निकाल रही थी और मैं तुरंत ही चट कर जा रहा था। वो आह आह आह आह आह कर रही थी। और मैं दोनों हाथो से चूचियों को मसल रहा था और जीभ से चूत को चाट रहा था। उसके थोड़े देर बाद वो निचे हो गई और मेरा लंड जो की अब करीब नौ इंच का हो गया था पकड़ कर अपने चूत पे रख कर बैठ गई। यारों मेरा लंड पूरा उसके चूत के अंदर समा गया। अब वो जोर जोर से बैठने लगी और उठने लगी। लंड अंदर बाहर जा रहा था और मेरी बहन के मुह से सिर्फ आह आह आह आह आह निकल रहा था।

वो खूब जोर जोर से चुदवाने लगी। फिर वो निचे हो गई और मैं ऊपर हो गया और फिर मैंने उसके दोनों पेअर को अपने कंधे पर रख कर, जोर जोर से उसके चूत में अपने लंड को डालने लगा। यारों ये कहानी आप नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पे पढ़ रहे हैं। इस तरह से वो मुझे रात भर मेरे से अलग अलग पोजीशन में चुदवाने लगी। उसके फिर मेरे साथ ही नंगे ही सो गई।

यारों दूसरे दिन मेरी दीदी मुझे 200 रूपये दी और बोली कंडोम ले आना, मैंने कंडोम शाम को बाजार से कंडोम भी लेके आ गया। रात में फिर से वो मुझेसे चुदवाने के लिए अपने सारे कपडे उतार दी। और मेरा भी कपडे उतार दी। और फिर से चुदवाने लगी, जब हम दोनों झड़ गए तो मैंने कहा दीदी ये सब गलत हो रहा था। उसने कहा क्या गलत हो रहा हैं। जब तक मेरी शादी नहीं हो जाती तुम मुझे ऐसे ही चोदते रहो, नहीं तो मैं मम्मी को क्या क्या बताउंगी तुम्हे समझ भी नहीं आएगा और बे मतलब में बदनाम हो जायेगा।

यारों उसके बाद वो मझसे बिना कंडोम के ही चुदवाने लगी। कहती हैं की कंडोम में मजा नहीं आता हैं। यारों अब मैं क्या बताऊँ आपको मुझे डर हैं की कही वो प्रेग्नेंट ना हो जाये, अब मैं रोज रोज अपने बहन को चोदता हु और वो मुझसे खूब मजे लेती हैं अलग अलग पोजीशन में

loading...

Leave a Comment