loading...

खुशबूदार चूत की चुदाई

दोस्तो, मेरा नाम कविता वर्मा है और मैं दिल्ली में रहती हूं। मेरी उम्र अभी 24 साल है और मैं बहुत ही सेक्सी औरत हूं। मेरे शरीर का साइज 32-28-34 है और मैं सेक्स में बहुत रुचि रखती हूं।
मैं घर में साड़ी पहनती हूँ और गहरे गले का ब्लाउज… जिसमें से मेरा क्लीवेज दिखता रहता है। मेरे बूब्स भी बहुत बड़े हैं।

मेरी अभी अभी शादी हुई है एक साल पहले और मैं अपने पति के साथ अकेले रहती हूं, मेरे पति का नाम राजीव है, वो 28 साल के हैं, वो एक मल्टीनेशनल कंपनी में काम करते हैं।

अब मैं अपनी हॉट सेक्स स्टोरी पर आती हूँ। यह कुछ 3 महीने पहले की बात है, मैं अपने पति से जब बहुत परेशान हो गयी थी क्योंकि वो मुझे पूरी तरह संतुष्ट नहीं कर पाते थे, वो बहुत जल्दी ठंडे हो जाते थे क्योंकि मेरे पति का हथियार बहुत छोटा है, सिर्फ 3 इंच का है और बहुत पतला है।
मेरी हॉट चुत अपनी चुदाई की आग में जलती रह जाती थी और कुछ भी नहीं कर पाती थी, मैं बस तड़प कर रह जाती थी पर मैंने ऐसे ही जीना सीख लिया था, मैं चुदाई की आग में अपनी खूबसूरती भी खोती जा रही थी।

मेरे पति सप्ताह में एक बार ही मेरे साथ सेक्स करते थे और मुझे तो रोज़ चुदाई करने की जरूरत महसूस होती थी। मैं अपनी चूत में कभी खीरा या फिर मोमबत्ती डाल कर अपनी गर्म चूत की प्यास बुझाती थी पर मेरे चुदाई में नाकारा पति से भी कुछ नहीं होता था, मैं बहुत अवसाद में रहने लगी थी।

और मेरी सहेलियां जब मुझसे पूछती थी कि कविता तेरी चुदाई कैसी चल रही है तो मैं उदास हो जाती थी. मैं अपनी सहेलियों की खुशहाल सेक्स लाइफ को देख कर जलने लग गयी थी क्योंकि उनकी चुदाई बहुत अच्छी चल रही थी और वो अपनी लाइफ में बहुत खुश थी।
मेरी सहेलियों ने मुझसे काफी बार पूछा कि ‘क्या हुआ तुझे…’ पर मैं कुछ नहीं बता पाती थी क्योंकि मैं अपने पति को बाहर वालों के समक्ष शर्मिंदा नहीं करना चाहती थी।

फिर एक दिन मेरी एक सखी मेरे घर आई, उसका नाम संजना था, मैं उस को देख कर बहुत खुश हुई, वो मेरी सबसे अच्छी सहेली थी जो मेरे मन को पूरी तरह समझती थी।
मैंने उसे घर में बैठाया और फिर हमने खूब बातें की फिर उसने अपनी जिदंगी की बारे में बताया।
उसकी जिंदगी बहुत अच्छी चल रही थी और वो बहुत खुश थी अपने पति से… और मुझे दिख भी रहा था कि वो बहुत खुश है।

फिर उसने मुझसे मेरी जिदंगी के बारे में पूछा तो मैं उदास हो गयी और रोने लगी।
उसने मुझे चुप करवाया, फिर उसने मुझसे पूछा- क्या हुआ रो क्यों रही है?
पर मैंने उससे कुछ नहीं बताया.

जब उसने मुझसे ज्यादा जिद की तो फिर मैंने उसे बताया कि मेरे पति राजीव मुझे सेक्स में संतुष्ट नहीं कर पाते, वो सात आठ दिन में सिर्फ एक बार ही चुदाई करते हैं… मैं बहुत ज्यादा परेशान हूँ मुझे चुदाई की आग लगी हुई है, मैं क्या करूँ?
उसने मुझसे कहा- ठीक है, तू चुप हो जा! मैं कुछ करती हूं तेरे लिये!

और वो अपने घर चली गयी पर मैं अपने घर में उदास की उदास रह गयी।

मैंने डिनर बनाया और शाम को राजीव घर आ गए, हमने साथ में डिनर किया और राजीव रूम में सोने चले गए. मैंने भी घर का काम खत्म किया और मैं भी रूम में आ गयी।
मैंने राजीव को जगाया, मैंने उनसे कहा- राजीव मुझे आज चुदाई करनी है!
पर राजीव ने मुझे कहा- नहीं, मेरा मन नहीं कर रहा।
और फिर वो सो गए.

फिर मैं बाथरूम में गयी और अपनी हॉट चूत में खीरा डालने लगी और वासनामयी आवाजें निकालने लगी- आह आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह!
फिर थोड़ी देर अपनी चूत को खीरे से चोदने के बाद मेरी गर्म चूत ने पानी छोड़ दिया और फिर मैं भी रूम में आकर सो गयी.

हम दोनों सुबह उठे और लोग फ्रेश हुए। राजीव नहाने चले गए और मैंने उनका टिफ़िन और ब्रेकफास्ट रेडी कर दिया। फिर वो थोड़ी देर बाद घर से चले गए आफिस!

मैंने घर का काम खत्म किया और टीवी देखने लगी।

थोड़ी देर बाद संजना का फ़ोन आया, उसने मुझसे कहा- मुझे तेरी हॉट चुत की चुदाई की आग शांत करने का आईडिया मिल गया।
अपनी सखी के मुख से मैं यह बात सुन कर बहुत खुश हो गयी, मैंने उसे पूछा- क्या… क्या… जल्दी बताओ?

उसने बताया- क्यों न हम तेरे लिये एक कॉल बॉय बुला लें!
पहले तो मुझे उसकी बात सुन कर एकदम बहुत गुस्सा आ गया और मैंने उसका फ़ोन काट दिया।
पर उसका फ़ोन बार बार आने लगा लेकिन मैंने नहीं उठाया.

फिर शाम को राजीव घर आ गए, हमने डिनर किया, मैंने राजीव से चुदाई की कहा तो उन्होंने आज फिर से मना कर दिया और मैं रोज़ की तरह अपनी चुत की खीरा चुदाई कर के सो गई.

अगले दिन राजीव आफिस चले गए. फिर दिन में संजना घर आई, मैंने उसे घर में अन्दर बुलाया पर मैंने उसे कुछ नहीं कहा.
अब फिर से संजना ने कॉल बॉय वाली बात की तो मैंने उसे स्पष्ट कह दिया- संजना, देखो मैं अपने पति राजीव को इस प्रकार से धोखा नहीं दे सकती।
फिर संजना ने कहा- यार कविता, मैं तुझे तेरे पति को धोखा देने को नहीं कह रही और न ही राजीव को छोड़ने की बोल रही हूँ। मैं तुझे बस कॉल बॉय के साथ मजा लेने को कह रही हूँ।
मैंने उससे कहा- अगर किसी को पता चल गया तो?
उसने कहा- किसी को पता नहीं चलेगा यार!

पर फिर भी मैंने उसे मना कर दिया और फिर संजना गुस्से में चली गयी.
फिर मैंने पूरे दिन इस बात के बारे में सोचा पर मेरा मन नहीं मान रहा था।

रात को राजीव घर आ गए, रोज की भान्ति हम दोनों ने डिनर किया और फिर हम लेट गए।
मैं पूरी रात काल बॉय के बारे में सोचती रही। सुबह हो गयी पर मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था।

फिर हम फ्रेश हुए और राजीव ऑफिस चले गए. मैंने घर का सारा काम कर लिया. फिर तब मैंने संजना को फ़ोन किया और उसे घर आने को कहा।
संजना मेरे घर आ गयी।

मैंने संजना से कहा- यार संजना, यह गलत नहीं होगा राजीव के साथ?
संजना ने कहा- कुछ गलत नहीं होगा यार… और तुम कौन सा राजीव को धोखा दे रही हो?
मैंने कहा- संजना, अगर किसी को पता चल गया तो मैं किसी को मुंह दिखाने लायक नहीं रहूँगी. मेरी बदनामी हो जाएगी।
संजना ने कहा- ऐसा कुछ नहीं होगा।

फिर संजना ने कहा- अगर तुम तैयार हो तो मैं आगे कुछ बात करूँ?
मैंने थोड़ा सोचा और फिर उसे हाँ बोल दी, मैंने उसे कहा- पर हम काल बॉय को बुलाएंगे कहाँ?
संजना ने कहा- तू उसकी टेंशन मत ले।

अब संजना ने अपनी एक दूसरी सहेली को फ़ोन किया और उससे पूछा कि उसके पास कोई कॉल बॉय का नंबर है क्या.
उस सहेली ने पूछा- तुम्हें चाहिए?
संजना ने कहा- हाँ।

इस तरह से एक कॉल बॉय का नंबर हमारे पास आ गया, संजना ने उसका नंबर अपने फ़ोन में सेव किया और उसे व्हाट्सएप पर मैसेज किया.
थोड़ी देर बाद उसका रिप्लाई आया, संजना ने उससे बात की और उसे बोला- तुम्हारी सर्विस चाहिए।
उसने पूछा- मगर कहाँ?
तो उसने कहा- दिल्ली में!

इस पर काल बॉय ने हाँ बोल दी और फिर संजना ने उसे कहा- अपनी फोटो भेज दो।
उसने अपनी फोटो भेज दी, फोटो आ गयी तो हमने देखी, वो बहुत हैंडसम था।

संजना ने उस से पूछा- तुम पूरी तरह से संतुष्ट तो करोगे ना?
उसने कहा- वो मेरा काम है।

उसने अपना चार्ज बताया- दो हजार रुपये में एक बार… उसके बाद हर एक राउंड के 500 रुपये.
हमने उसे बुक कर दिया और उसे 5 दिन बाद की डेट दे दी और वो रेडी हो गया।

मैंने संजना से पूछा- अब उससे मिलेंगे कहाँ?
तो संजना ने कहा- हम होटल में रूम बुक कर लेंगे।
मैंने कहा- यार संजना, मुझे डर लग रहा है… किसी तो पता तो नहीं चलेगा?
संजना ने कहा- नहीं यार… तू डर मत, किसी को कुछ पता नहीं चलेगा।

मैंने उससे कहा- राजीव को क्या बोलेंगे?
तो उसने कहा- वो सब मुझ पर छोड़ दे।
मैंने संजना को थैंक्स बोला और फिर वो चली गयी।

loading...

मैं बहुत खुश थी, मैं अपनी हॉट चुत की शानदार चुदाई के सपने देख रही थी।

और फिर शाम हो गयी राजीव घर आ गए। हमने डिनर किया और फिर थोड़ी देर बाद संजना का फ़ोन आया राजीव के फ़ोन पर!
मैं समझ गयी थी कि क्यों आया है संजना का फ़ोन!
संजना ने राजीव से कहा- राजीव, मेरी तबियत ठीक नहीं है क्या तुम कविता को थोड़े दिन मेरे घर भेज दोगे मेरी हेल्प के लिये?
राजीव ने हाँ बोल दी।

पर मैंने नाटक करते हुए पूछा कि संजना क्या बोल रही थी।
राजीव ने मुझे पूरी बात बताई और कहा- तुम कल उसके घर चली जाना!
मैंने कहा- ठीक है!

मैंने तभी उठ कर अपना बैग पैक कर लिया और हम सो गए.

अगले दिन मैं संजना के घर आ गयी, मैं बहुत खुश थी लेकिन मन में थोड़ी शंका थी, डर भी मन के किसी कोने में अपना घर बनाए बैठा था.

लेकिन हमने वहां सब प्लान किया और अगले दिन की 3 दिन बाद की होटल में बुकिंग करवा ली और हमने उस कॉल बॉय को भी बता दिया।
हम फिर सोने चले गए, मुझे और संजना को नींद नहीं आ रही थी कल के बारे में सोच कर!

अगले दिन हम उठे, फ्रेश हुए, हमने ब्रेककफस्ट किया और हम थोड़ी देर बाद होटल आ गए, हमने होटल में चेक इन कर लिया और हम रूम में आ गए.

फिर संजना ने उस काल बॉय को फ़ोन किया.

थोड़ी देर बाद उसका फ़ोन आया, उसने कहा- मैं होटल के बाहर हूँ, तुम अपना रूम नंबर बता दो!
हमने उसे रूम नंबर बताया और फिर थोड़ी देर बाद रूम की रिंग बजी, संजना ने रूम का गेट खोला तो वो बॉय अंदर आ गया.

सच में वो बॉय हॉट था और हैंडसम भी!
हमने रूम का गेट बंद कर लिया और फिर वो हमारे पास आकर बैठ गया। हम उससे बात करने लगी.
संजना ने कहा- अब शुरू करें?
उसने कहा- ओके मैम।

उसने पूछा- पहले किसके साथ करना है?
संजना ने मेरी ओर उंगली से इशारा करके कहा- इनके साथ करना है।

संजना सोफे पर जाकर बैठ गयी फिर उस बॉय ने मुझे अपनी गोद में उठा लिया और बेड पर लेटा दिया। वो मेरे करीब आ गया और उसने मुझे किस करना शुरू कर दिया।
उसने मुझे 15 मिनट तक किस किया, फिर वो मेरे गले को चूमने लगा. फिर वो नीचे आ गया और उसने मेरी नाभि पर किस की फिर उसने मेरी साड़ी को थोड़ा ऊपर किया और मेरी चिकनी जांघों को चाटने लगा।

फिर वो ऊपर आ गया, उसने मेरी साड़ी का पल्लू निकाल दिया और मेरी साड़ी उतार दी और मुझे चूमने लगा.
मुझे मजा आ रहा था।

फिर उसने मेरा ब्लाउज की हुक खोलना शुरू किए और जैसे ही मेरे ब्लाउज के सारे हुक खुले, मेरे बूब्स एकदम से उछल पड़े, उसने मेरा ब्लाउज निकाल दिया फिर उसने मेरे पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया और मेरा पेटीकोट भी उतार कर फेंक दिया।

अब मैं सिर्फ लाल रंग की ब्रा पैंटी में थी, मुझे बहुत शर्म आ रही थी क्योंकि मैं पहली बार अपने पति के अलावा किसी और मर्द के सामने इस अधनंगी हालत में थी.
फिर वो मेरे पूरे बदन को चूमने चाटने लगा, मैं तो वासना से मदहोश हो गयी थी।

अब उसने मेरी ब्रा का हुक खोल दिया और फिर मेरी ब्रा उतार दी और मेरे बूब्स को चूसने लगा, मुझे बहुत मजा आ रहा था, मैं ‘आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह आह कर रही थी.

फिर वो लड़का मेरी चूत पर आ गया और उसने मेरी पैंटी उतार दी, फिर मेरी नंगी चूत पर किस किया, फिर उसने मेरी चूत चाटी।

इस सारे खेल में आधा घंटा बीत गया और इस दौरान मैं भी पूरे जोश में आ गयी और उसे चूमने लगी, चाटने लगी।
फिर मैंने उसके कपड़े उतारने शुरू किए और उसके सारे कपड़े निकाल दिए. अब वो सिर्फ शॉर्ट्स में था, मैंने उसका शॉर्ट्स भी निकाल दिया और मैं उसका लंड देख कर शॉक्ड रह गयी और संजना भी… क्योंकि उसका लण्ड बहुत बड़ा था।

मैंने उसका लण्ड अपने मुख में लेना चाहा पर उसका लण्ड मेरे मुंह में नहीं आ रहा था।
फिर मैंने उसका लण्ड चूसा दस मिनट तक… पर उसका माल नहीं निकल रहा था।

आखिर मैंने उसे कहा- अब शुरू करते हैं।
और मैं लेट गयी।

फिर वो मेरी नंगी जांघों के बीच में आया, उसने अपना लण्ड मेरी हॉट चूत पर रखा और हल्का सा धक्का देकर अंदर डाल दिया. अभी थोड़ा ही लंड मेरी चुत में घुसा था पर इतने से ही मेरी तो चीख निकल गयी. इस बड़े मोटे लंड के लिए तो मेरी चूत कुंवारी जैसी थी.

फिर उसने धक्के मारना शुरू कर दिया, मैं जोर जोर से आहें भर रही थी और फिर मैं थोड़ी ही देर बाद झड़ गयी।
पर वो अभी नहीं झड़ा था, वो लगातार धक्के मार रहा था.

अब मुझे बहुत दर्द हो रहा था, मैं रोने लगी, उसने मेरी चूत से खून निकाल दिया और मैं चीख रही थी, उसे रोक रही थी पर वो नहीं रुका, उसने तीस मिनट तक लगतार चोदा और फिर वो भी झड़ गया.

और वो थोड़ी देर बाद ही फिर से रेडी हो गया, उसका लंड फिर से उसी तरह अपना सर उठाये खड़ा था पर मैं रेडी नहीं थी। मैं दोबारा चुदाई के लिए मना कर रही थी पर संजना मुझ पर दोबारा चुदाने के लिए जोर डालने लगी तो मैं तैयार हो गयी.

उसने मुझे फिर चोदा और मैं फिर झड़ गयी और फिर थोड़ी देर बाद वो भी झड़ गया. फिर उसने मेरी गांड मारने के लिए पूछा तो मैं घबरा गई, मैंने एकदम से ना कर दी.
मैंने पूरे डेढ़ घंटा चुदाई की थी और मेरी चूत बहुत दुःख रही थी, मैं थक गई थी।

फिर संजना भी जोश में आ गयी और उसने संजना को भी चोदना शुरू कर दिया. वो भी दर्द और मजे से चीख रही थी और वो भी झड़ गयी.
फिर हमने काल बॉय को उसके पैसे दे दिए और उसे जाने को कहा.

हम दोनों सखियाँ बहुत थक गई थी, हमें बहुत दर्द भी हो रहा था पर इस हॉट चुदाई से मैं पूरी तरह खुश हो गयी थी.

और अब तो मैं मौक़ा मिलते ही उसे बुला कर ही अपनी चुदाई करवाती हूँ। अब मैं बहुत खुश हूं।

loading...

Leave a Comment