loading...

जिया की चुदाई देख बड़ी बहन सोनी को बरदास नही हुआ

मेरा नाम गुल्लू है.. मैं कानपुर का रहनें वाला हूँ| मेरा कद 5’7″ का है.. रंग सावला और सेक्स के लिए हमेशा तैयार रहता हूँ| लेकिन अपनें लंड की इच्छा लड़कियों से कहनें से हमेशा झिझकता रहा हूँ| मुझे हमेशा चुदाई ही पसंद है.. लेकिन मेरी लड़कियों से ना बोलनें की वजह से कोई नहीं लौंडिया ना पट सकी|
यह कहानी एक साल पुरानी है.. तब मैं बी ए के तीसरे साल में था और उस वक्त 20 साल का था| चूँकि मैं एक सीधा:-सादा लड़का था| सेक्स के लिए हमेशा से ही मैं लड़की के बारे में सोचता रहता था| कभी:-कभी सोचता था कि मुझे एक प्ले बॉय भी बन जाना चाहिए|
मैं एग्जाम देनें एक दूर के रिश्तेदार के यहाँ से दे रहा था| मैंनें पहली बार वहाँ पर एक लड़की को देखा| उसका नाम जिया(बदला हुआ नाम) था| वो 19 साल की थी.. थोड़ी मोटी थी| मैंनें जब उसे देखा तो वो देखनें में अच्छी चोदनें लायक माल लगी|
मैं यहाँ एक बात बता दूँ कि वो भी कानपुर से ही थी| इस वजह से वो मुझसे थोड़ा ज्यादा घुल:-मिल गई और मुझसे अच्छे से बातें भी करनें लगी थी| धीरे:-धीरे हम दोनों में अच्छी दोस्ती हो गई|
एक दिन बातों ही बातों में उसनें बताया कि उसका कोई बॉयफ्रेंड नहीं है| तब मैंनें उससे प्यार वाली दोस्ती करनें को कहा तो उसनें कहा कि सोच कर बताऊँगी|

मैंनें कहा:- ठीक है लेकिन थोड़ा जल्दी बताना|

वो उस वक्त वहाँ से चली गई|

उसकी एक ताई की लड़की वहीं रहती थी, उसका नाम सोनी था| सोनी जिया से बड़ी थी, मेरी उससे भी अच्छी दोस्ती थी लेकिन मुझे उससे सेक्स के बारे में कभी ख्याल नहीं आया|

जिया नें सोनी से मेरे बारे में सब कुछ पूछा तो उसनें बता दिया| ये बात मुझे सोनी नें बता दी|
इसके बाद जिया नें भी मुझसे कह दिया:- मुझे तुम अच्छे लगते हो और मैं तुमसे प्यार भी करती हूँ|
मैंनें झट से उसे अपनें सीनें से लगा लिया और उसे धीरे:-धीरे किस करनें लगा| लेकिन दिन होनें की वजह से हम दोनों कुछ ज्यादा न कर सके|

हम दोनों नें रात को उसके ही घर पर मिलनें का सोचा लेकिन एक दिक्कत थी उसकी मम्मी भी वहीं थीं|

तब मैंनें सोनी का सहारा लिया, उसको मैंनें कहा:- तुम आज उसके घर पर सो जाओ|

तो उसनें कहा:- ठीक है|
जब जिया की मम्मी ऊपर सोनें चली गईं| तब जिया नें मुझे रात में काल करके घर पर आनें को कहा.. उसनें बताया कि सोनी भी सो चुकी है|
अब हमारी कहानी शुरू हुई.. हम दोनों अन्दर कमरे में आ गए बिस्तर पर आनें लगे| मैंनें उसे अपनी गोद में उठाया तो वो मेरी गांड में उंगली करके मुझे छेड़नें लगी|

मैंनें कहा:- रुको बेड पर तो पहुँचनें दो.. फिर तुम्हें बताता हूँ|
मैंनें उसे बिस्तर पर लिटा दिया और खुद उसके ऊपर लेट कर उसके होंठों पर किस करनें लगा| किस क्या.. मैं तो उसके ऊपर बिल्कुल टूट पड़ा.. एकदम कुत्ते की तरह उसे भंभोड़नें लगा|

उसनें कहा:- आराम से करो न!
उसके भी पैर चलनें लगे| फिर मैंनें धीरे:-धीरे उसके कपड़े उतारनें चालू किए.. पहले उसका टॉप ऊपर किया और उसके पेट पर किस करनें लगा.. अपनी जीभ चलानें लगा|

वो आहें भरनें लगी:- आह आह..

वो कहनें लगी:- ओह.. गुल्लू ऐसे ही आह आह.. और जोर से करो.. आह आ हाय.. मजा रहा है|
मैं अपनें हाथों को उसकी मोटी:-मोटी टांगों पर चलानें लगा.. जिससे वो और उछलनें लगी| फिर मैंनें उसके टॉप को उतार दिया और उसके ब्रा के ऊपर से उसके मम्मों को दबानें लगा|

बहुत मजा आ रहा था|
साली मोटी होनें की वजह से बहुत मजा दे रही थी| मैं पागलों की तरह उसके चूचों को दबाए जा रहा था| फिर मैं अपनें हाथों को उसकी पैंटी में डाल कर उसकी चूत को सहलानें लगा| उसकी चूत काफी फूली हुई थी.. जिसे सहलानें में बहुत मजा आ रहा था|
अब मेरा लण्ड पेंट के अन्दर फटा जा रहा था| फिर मैंनें उसके बाकी कपड़े निकालनें शुरू किए| पहले उसकी ब्रा उतारी और उसके मम्मों को मुँह में लेकर चूसनें लगा| उसके मम्मे एकदम रुई के जैसे थे| मैं अपनें मुँह को धीरे:-धीरे नीचे करता गया.. अपनी जीभ को उसके पेट पर चलाते हुए नीचे उसकी कमर पर आ पहुंचा| उसकी पैंटी को भी दांतों से खीच कर निकाल दिया| अब वो बिल्कुल नंगी हो चुकी थी और मैं उसकी चूत को अपनी जीभ से चाटनें लगा|
चुत पर जीभ लगते ही वो एकदम से उछल गई और आहें भरनें लगी ‘आह आह.. नहीं आह.. ओह.. गुल्लू आह ऑह.. इस्स आह..’

मैंनें उससे पूछा:- कभी पहले लंड लिया है?

उसनें कहा:- नहीं..

मैंनें कहा:- तुम्हें थोड़ा दर्द सहना पड़ेगा|

बोली:- सब झेल लूँगी|
मैं उसके होंठों पर किस करनें लगा और अब वो इतनी गर्म हो चुकी थी कि मेरे होंठों को काटनें लगी, उसनें कहा:- गुल्लू अब बर्दाश्त नहीं होता है, जल्दी से कुछ करो|

मैंनें कहा:- रुको मेरी जान.. पहले तुम्हें थोड़ा और गर्म कर दूँ.. जिससे तुम लंड के दर्द को सह सको|
फिर मैं 69 की पोजीशन में आया.. जिससे मेरा लौड़ा चिकना होकर उसकी बुर में आराम से धीरे:-धीरे अन्दर जानें लगे|
छोटी ही उम्र में पड़ोसन की लौंडिया को चोदनें की वजह से मेरे लंड का टांका टूटा हुआ था| उस वक्त वो लौंडिया भी फूल की कली सी थी|
कुछ देर 69 में लंड चुत की चुसाई के बाद मैंनें उसे सीधा लिटा कर फिर से उसकी अनचुदी चूत को बुरी तरह से चूसनें लगा| वो बुरी तरह से आहें भरते हुए उछलनें लगी ‘आह हय इस्स आह..’
उसी वक्त वो इठते हुए झड़ गई.. मैं उसकी कच्ची चूत का पानी मजे से पीनें लगा| फिर मैं उसके होंठों को किस करनें लगा.. जिससे उसे भी अपनी चूत का स्वाद मिल गया|
फिलहाल वो ढीली सी होकर लेट गई थी, लेकिन मुझे उसको अभी चोदना था.. तो मैंनें उसे फिर से गर्म करना चालू किया, उसके मम्मों को दबाया.. उसकी चूत पर हाथ फिराना चालू किया और अपनें लण्ड को उसकी कमर पर रगड़नें लगा|
उसनें अपनें हाथों से मेरे लंड को पकड़ कर हिलाना शुरू किया और कुछ ही पलों में वो फिर से गर्म हो गई| वो आहें भरते हुए चुत उछालनें लगी| मैंनें महसूस किया कि इस बार वो कुछ ज्यादा ही गर्म लग रही थी|

यह हिंदी चुदाई की कहानी आप सेक्स कहानी हिंदी डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!
मैं तो कब से चुत चोदनें को पागल हुआ पड़ा था| फिर मैंनें देर न करते हुए अपनें लंड पर ढेर सारा थूक लगाया और उसकी चूत पर भी लगा दिया|

तभी सोनी वहाँ पर आ गई|

वो मेरी दोस्त होनें की वजह से बोली:- अच्छा तो इसलिए मुझे यहाँ भेजा गया था.. गुल्लू तुमनें मुझे नहीं बताया|
तो मैंनें कहा:- अब बता देता हूँ.. इसे यहाँ पर इसकी सील तोड़नें लाया था|

फिर उसनें कहा:- इसकी सील ऐसे नहीं टूटेगी.. तेरा लंड चुत में भी नहीं जा पाएगा.. मैं आऊं क्या?

मैंनें कहा:- हाँ जरूर..
वो हम दोनों के पास आ गई|
मैंनें उससे पूछा:- तुम तो सो रही थीं?

उसनें कहा:- जिया नें मुझे बता दिया था.. कि आज उसकी दुकान का फीता कटना है.. चलो अब मजा दोगुना आएगा|
मैं समझ गया कि ये दोनों मेरे लंड से चुदना चाहती हैं|
फिर सोनी नें अपनें कपड़े भी निकाल दिए और वो जिया के मम्मों को दबानें लगी| सोनी खेली खाई थी.. तो उसे सब पता था| वो जिया की चूत के दानें को मसलनें लगी.. जिससे जिया को मजा आनें लगा और वो कमर उठानें लगी|
फिर सोनी नें एकदम से मेरे लण्ड को अपनें मुँह में लेकर चूसनें लगी| मुझे एकदम से ऐसा झटका सा लगा जिसे बता नहीं सकता|

सोनी एक चुदी:-चुदाई लड़की थी.. तो वो मेरे लंड को पागलों की तरह चूसनें लगी| वो जिया की चूत भी सहलाती रही.. जिया को भी मजा आ रहा था.. जोकि उसकी आहों से पता चल रहा था|
सोनी नें कहा:- अब तुम्हारी चूत की बारी है| सोनी नें मेरे लण्ड पे थूक लगाया और जिया की चूत में भी लगा दिया| फिर उसनें जिया की चुत में लंड से धक्का लगानें को कहा| मैंनें जैसे ही लण्ड डाला जिया चिल्ला पड़ी|
मैंनें तुरंत अपनें होंठ उसके होंठों से लगा कर उसे किस करनें लगा और धीरे:-धीरे अपनें लण्ड को अन्दर डालते हुए उसके मम्मों को दबानें लगा|
दर्द के कारण जिया के आंसू आनें लगे| फिर सोनी नें उसकी जांघों को सहलाया और साथ ही सोनी नें जिया की चूत और मेरे लण्ड के बीच में हाथ लगा कर चुत सहलानें लगी.. जिससे जिया का दर्द कम हो गया| इसी बीच मैंनें अपनें लंड का एक जोर का धक्का लगा दिया| लण्ड थोड़ा ही अन्दर गया था लेकिन जिया कराहनें लगी|
वो दर्द से अपनें पैर हिलानें लगी| लेकिन सोनी नें उसके पैरों को दबा लिया और मुझे अपना काम करनें को कहा| लेकिन इतनी टाइट चूत होनें की वजह से लण्ड जा नहीं रहा था| फिर मैंनें एक जोरदार धक्का मारा और जिया की सील टूट गई| इससे मेरे लण्ड में भी दर्द होनें लगा लेकिन चूत के जोश की वजह से धक्के देता गया और पूरा लण्ड अन्दर पेल कर उसके ऊपर लेट कर उसके होंठों को किस करनें लगा|
अब मैं जिया के शांत होनें का इन्तजार करनें लगा.. लेकिन सोनी कहाँ माननें वाली थी| उसनें मुझे चुदाई करनें को कहा क्योंकि इसके बाद उसे भी तो चुदवाना था| साली की चुदी:-चुदाई चुत कुलबुला रही थी.. उसे बहुत दिनों से किसी का लण्ड नहीं मिला था तो वो जल्दी से जिया को चुदवाकर खुद चुदना चाहती थी|
मैंनें फिर चुदाई शुरू की.. जिया को थोड़ा दर्द और चुदाई का मजा आना शुरू हो रहा था|

जिया:- आह उई.. ऊ.. उम्म.. मर गई

इस बीच सोनी उसकी मोटी:-मोटी जांघें सहलाए जा रही थी|
मैंनें उसके मम्मों को दबाते हुए चुदाई शुरू कर दी.. अब उसे भी मजा आनें लगा था| कुछ ही पलों में वो अपनें चूतड़ उचका:-उचका कर मस्ती से चुदवा रही थी और आहें भी भर रही थी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह..’

वो चुदास में मेरी पीठ पर नोचे जा रही थी|
फिर तभी सोनी नें मेरा लण्ड बाहर निकाला और चूसनें लगी| साथ ही वो जिया की चूत में उंगली डाल कर उसकी चूत चोदनें लगी| मैंनें फिर से लण्ड को जिया की चुत में ठेला और चूत चोदनें लगा| जिया भी अपनें पैरों को मेरी कमर में लपेट कर चुदनें लगी और अपनें चूतड़ उचकानें लगी.. वो बड़ी मस्ती से उछल:-उछल कर चुदते हुए आहें भरती रही|
कुछ ही धक्कों के बाद जिया अकड़नें लगी और शायद उसकी चुत नें पानी छोड़ दिया था तभी मैं भी 2:-4 धक्कों के बाद निकल गया| हम दोनों वहीं एक:-दूसरे से चिपककर ढेर हो गए.. मैं जिया के ऊपर ही लेट गया|
जिया की चुत अब कुँवारी नहीं रही थी उसनें मेरे लंड से सील खुलवा ली थी|

इसके बाद सोनी की चुत चुदनें का नम्बर आ गया था, उसकी चुदाई की कहानी को फिर कभी लिखूंगा| अभी आपके मेल का इन्तजार है|
vikash134@gmail.com

loading...

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *