loading...

चुत चुदाई की दास्तां-9

Hindi sex story, hindi sex kahani, rialkahani,bhabhi ki chudai

दोस्तो, आपनें मेरी इस सेक्सी कहानी में अब तक जाना कि संजय पूजा के बारे में बतानें से पहले उसी के सन्दर्भ में अपनी दीदी के बारे में बता रहा था और उसकी चुदक्कड़ फ्रेंड टीना सुन रही थीl
अब आगे..

टीना- इट्स गुड यार.. ये तो बहुत ख़ुशी की बात है.. मुझे भी दीदी से मिलवाना, आज तक उनके बारे में बस सुना है.. उन्हें देखा नहीं हैl
संजय- हाँ ज़रूर मिलवा दूँगा तुझे..
टीना- यार बुरा मत मानना.. कहानी का हैप्पी एंड हो गया मगर पूजा नहीं आई, ये कन्फ्यूजन दूर करो.. मेरा इस कहानी का पूजा से क्या सम्बन्ध है?
संजय- अबे साली तेरी समझ में नहीं आया क्या पूजा मेरी दीदी की बेटी है और आर्यन उसका छोटा भाई है?

टीना- ओ माय गॉड… मगर कन्फ्यूजन फिर भी वैसा का वैसा है.. पूजा तो बच्ची है और तेरी हालत तो ऐसी थी जैसे कोई गजब का माल देखा होl
संजय- यार टीना तू समझ नहीं रही है वो लोग जब बंगलोर गए थे पूजा बच्ची ही थी.. आज जब उसको देखा तब भी मेरी नजर में बच्ची ही लगी, लेकिन वो अब बड़ी हो चुकी है, पूरे 18 की! और दोपहर से शाम तक जो हुआ, पूछ मत यार मेरी क्या हालत हुई है!
टीना- ओह गॉड अब समझी कुछ ना कुछ गड़बड़ तो हुई है.. यार बता जल्दी नहीं तो मेरा दिमाग़ सोच-सोच कर फट जाएगाl
संजय- यार तेरा क्या मेरा खुद का दिमाग़ घूमा हुआ हैl
टीना- प्लीज़ यार बता ना?
संजय- अच्छा सुन.. वैसे तो वो लोग रात को शिफ्ट हो गए थे, मगर मेरी मुलाकात उनसे सुबह हुईl

टीना को अभी भी संजय की बात समझ नहीं आ रही थी मगर उसनें सोचा दोबारा पूछेगी तो संजय गुस्सा होगा इसलिए वो चुपचाप बैठी थीl

संजय- सुबह हमनें साथ नाश्ता किया फिर गप्पें लड़ाईं और दोपहर लंच तक सब कुछ ठीक थाl उसके बाद मैं अपनें कमरे में आराम करनें चला गया बाकी सब नीचे बैठे बातें कर रहे थेl
टीना- अच्छा फिर क्या हुआ?
संजय- फिर क्या होना था.. रोज की तरह मैंनें अपनें सारे कपड़े निकाले सिर्फ़ एक पतला सा बरमूडा पहना और लेट गयाl
टीना- सारे कपड़े मतलब.. अंडरवियर भी छी कितनें गंदे हो तुम.. सिर्फ़ बरमूडा में सोते हो हा हा हा हा हा..
संजय- अबे साली, लड़के ऐसे ही सोते हैं.. अंडरवियर सारा दिन पहनें रहेंगे, तो लंड को आराम कैसे मिलेगा?
टीना- पता है मेरे जानू.. मैं तो बस ऐसे ही मजाक कर रही थीl

संजय- तुझे मजाक सूझ रहा है मेरी टेंशन से हालत खराब हैl
टीना- यार तू बुरा मत मानना मगर तेरी कहानी मेरे समझ के बाहर हैl पूजा से तू मिला, बातें की, फिर सो गया तो शाम को ऐसा क्या हुआ जो तू इतना पागल हो गया?
संजय- ऐसे तेरी समझ में कुछ नहीं आएगा.. मैं तुझे पूरी बात बताता हूँ, जिसकी वजह से ये सब हुआ ओके!

ओ हैलो आप लोग भी कन्फ्यूज हो ना.. तो भाई ऐसे ना तो आपको समझ आएगा ना मज़ा आएगाl इससे अच्छा आपको सीधा संजय के घर लेकर चलती हूँl वहाँ का नजारा देख के शायद मज़ा आ जाएl

संजय अपनें बिस्तर पर आराम से लेटा हुआ था तभी पूजा कमरे में आती है और सीधा संजय के पेट पर आकर बैठ जाती हैl

पूजा देखनें में एकदम स्वीट सी है, उसनें पिंक टी-शर्ट और ब्लैक स्कर्ट पहना हुआ थाl

आपको बता दूँ पूजा बहुत खूबसूरत लड़की है.. छोटे-छोटे गहरे काले बाल, एकदम बड़ी-बड़ी आँखें और आँखों का कलर नीला.. जैसे कोई लेंस लगाया हुआ हो, चाँदी जैसा चमकता रंग, सीना तो ज़्यादा नहीं मगर संतरे एकदम ठोस हैं और हाँ इसकी जांघें मोटी-मोटी और गांड बाहर को निकली हुई है, वो बहुत मस्त लग रही थीl चलो अब आगे का सीन देखते हैंl

संजय- अरे ये क्या है पूजा ऐसे कोई करता है क्या.. चलो नीचे उतरोl
पूजा- क्यों उठूँ मैं.. हाँ पहले भी ऐसे ही बैठती थी ना.. अब भी ऐसे ही बैठूंगीl आप मेरे प्यारे मामू हो नाl
संजय- अरे उस टाइम तू छोटी थी अब मोटी हो गई है हा हा हा हा..
पूजा- अच्छा मुझे मोटी कहा हाँ.. अभी रूको आपको बताती हूँl

इतना कहकर पूजा नें संजय के हाथ पकड़ लिए और उसके ऊपर लेट गई और अपनें दांतों से उसकी गर्दन पर काटनें लगीl

दोस्तो, गड़बड़ यहीं से शुरू हुईl इसी खेल-खेल में पूजा की चुत संजय के लंड पर सैट हो गई थी और मस्ती की वजह से चुत धीरे-धीरे लंड पर घिस रही थीl उसके छोटे-छोटे संतरे संजय के सीनें से सटे हुए थेl अब ऐसी पोज़िशन में आदमी का ध्यान भले ना जाए मगर ये कम्बखत लंड जो है ना.. ये खड़ा होकर अच्छे ख़ासे इंसान को सोचनें पे मजबूर कर देता हैl

वही हाल संजय का हुआ.. उसका लंड एकदम तन गयाl अब उसको पूजा कच्ची कली नज़र आनें लगीl
संजय- ओफ क्या कर रही हो पूजा आह.. हटो ना अफ..
पूजा- क्यों मज़ा आया ना.. अब बोलो मोटी हा हा हा हा..

संजय नें अपनें हाथ छुड़ाए और पूजा को नीचे पटक कर उसके ऊपर आ गया और उसको गुदगुदी करनें लगाl
गुदगुदी करते हुए संजय के हाथ उसके संतरों से भी टकरा गए.. क्या कड़क चूचे थे और एक बार उसकी स्कर्ट भी पूरी ऊपर को हो गई तो उसकी सफ़ेद पेंटी में छुपी उसकी फूली हुई चुत भी उसको दिखीl बस दोस्तों शैतान दिमाग़ में आनें के लिए ये बहुत थाl

अब संजय गुदगुदी के बहानें उसके जिस्म से खेलनें लगा.. उसकी चुत पे लंड सैट करके आगे-पीछे झटके देनें लगाl

पूजा- आह.. मामू छोड़ो ना.. उफ़ क्या कर रहे हो आह.. प्लीज़ आह.. नीचे कुछ चुभ रहा हैl
संजय- बदमाश मुझे काटा था, तब मुझे भी दर्द हुआ था.. अब बोल दोबारा ऐसा करेगी?
पूजा- नहीं मामू सॉरी.. अब ऐसा नहीं करूँगी प्लीज़ छोड़ दोl

दोस्तों संजय का लंड एकदम लोहे जैसा सख़्त हो गया था.. इस वक्त उसनें अंडरवियर भी नहीं पहना था तो बरमूडा तन के तंबू बन गयाl

संजय को पता था उसका लंड बेकाबू हो गया है.. वो इस तरह उठा कि पूजा को तंबू ना दिखे, वो करवट लेकर अलग हो गयाl

पूजा- मामू आप कितनें अच्छे होl

ये कहकर पूजा नें संजय के गाल पर एक किस कर दीl अब ये तो आग में घी डालनें वाली बात थीl बेचारा संजय सोच में पड़ गया कि क्या करे.. एक बार सोचा कि नहीं ये ग़लत है, तो दूसरी आवाज़ आई कि कुछ ग़लत नहीं ये तो नादान है.. मगर तू तो पक्का खिलाड़ी है, थोड़े मज़े लेनें में क्या जाता हैl

संजय- अच्छा एक बात बता.. तू ऊपर कैसे आई बाकी सब कहाँ हैं?
पूजा- मॉम और डैड घर चले गए.. वो उनको सामान वगैरह सैट करना बाकी है ना.. तो यहाँ से भी अंकल आंटी और काम वाली बाई सब साथ गए हैंl मैंनें कहा मुझे मामू के साथ खेलना है तो मैं यहीं रुक गईl
संजय- और आर्यन नहीं रुका ऐसे तो वो मुझसे बहुत चिपकता है?
पूजा- उसनें तो बहुत ज़िद की मगर उसको बुखार है ना.. तो मॉम नें उसको मना किया और अपनें साथ ले गईंl

पूजा की बात सुनकर संजय के दिमाग़ में शैतानी प्लान आ गया.. वो जान गया था कि घर में कोई नहीं है, अब वो खुलकर पूजा के मज़े ले सकता थाl

संजय- अच्छा ये बात है चल तुझे झुला देता हूँ.. जैसे पहले झुला देता थाl
पूजा- वाउ मामू.. बहुत मज़ा आएगाl

संजय बेड से उठा और पहले उसनें दरवाजे को लॉक किया.. फिर खिड़की भी बंद कर दी और कमरे की लाइट भी बुझा दीl उसके बाद सामनें आराम कुर्सी पर जाकर बैठ गयाl

संजय- आ जाओ पूजा मेरी गोदी में बैठ जाओ.. फिर मैं हिलूँगा तो मज़ा आएगाl

दोस्तो, पहले भी संजय ऐसे ही पूजा को आराम कुर्सी पर बैठा झूला झुला देता था मगर आज तो उसका इरादा कुछ और ही थाl

पूजा- मामू ये क्या.. आपनें तो अंधेरा कर दिया, कुछ दिख नहीं रहाl
संजय- अरे पगली दोपहर का टाइम है लाइट की क्या ज़रूरत है और अंधेरे में ज़्यादा मज़ा आएगा.. तू आ तो सहीl

पूजा ख़ुशी से कुर्सी के पास आई और जब वो बैठनें लगी तो संजय नें चालाकी से उसका स्कर्ट ऊपर को कर दियाl

अब पूजा संजय के खड़े लंड पर बैठी थी बीच में बस पतला सा बरमूडा और पेंटी आ रही थीl

पूजा- ऑउच मामू मुझे नीचे कुछ चुभ रहा हैl
संजय- अच्छा ऐसी बात है.. तू खड़ी हो एक बार फिर नहीं चुभेगाl

पूजा खड़ी हुई तो उसकी पीठ संजय की तरफ थी उसनें जल्दी से बरमूडा नीचे किया और अपना लंड बाहर निकाल लिया और पूजा को धीरे से बैठनें को कहाl

जैसे ही पूजा बैठी संजय नें दोबारा उसका स्कर्ट ऊपर कर दियाl अब लंड पूजा की जाँघों से होता हुआ सीधा उसकी चुत से जा सटा था और कमरे में अंधेरा होनें से पूजा ये सब देख भी नहीं पाईl

संजय अब कुर्सी को हिला रहा था और धीरे-धीरे लंड चुत पर घिस रहा थाl

संजय- क्यों पूजा मज़ा आ रहा है नाl
पूजा- आह.. हाँ मामू बहुत मज़ा आ रहा है उफ़ लेकिन नीचे कुछ गीला-गीला अजीब सा लग रहा हैl
संजय- अरे मेरी भोली पूजा, तुम ज़्यादा ध्यान मत दो बस मज़ा लोl

संजय बातों में उलझा कर उम्म्ह… अहह… हय… याह… अब पूजा के संतरे भी सहला रहा थाl

पूजा को समझ आ रहा था या नहीं ये तो पता नहीं मगर मज़े से उसकी आँखें बंद हो गई थीं.. और उसके मुँह से मादक सिसकारियां निकलनी शुरू हो गई थींl

पूजा- आह.. ससस्स मामू ऐसा झूला आह.. अपनें पहले कभी नहीं दिया आह.. कितना मज़ा आ रहा हैl
संजय- तू पहले छोटी थी ना.. तो तुझे पता नहीं थाl अब तू बड़ी हो गई है तब मज़ा आ रहा है और जोर से करूँ तो और मज़ा आएगा तुझेl
पूजा- आह.. हाँ मामू मैं भी इसस्स.. यही कहनें वाली थी.. उफ़फ्फ़ जोर से करो ना.. आह..

संजय को अब अहसास हो गया था कि पूजा की चुत रिसनें लगी है और उसका पानी वो अपनें लंड पर महसूस कर रहा थाl उसको भी कच्ची चुत पर लंड रगड़नें का अलग ही मज़ा मिल रहा थाl

loading...

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *