loading...

चुत चुदाई की दास्तां-6

अब तक आपनें इस ससुर बहु सेक्स की कहानी में पढ़ा कि मोना नें राजू का मरियल लंड ये सोच कर चूसा था कि उसकी चुत की खाज किसी तरह मिट जाएगी.. पर उसका लंड ढीला पड़ जानें से मोना नीचे आ गई और नीचे काका उसके कमरे में बैठे थे वे उसकी इस हरकत को देख चुके थेl ये जान कर मोना नें रोनें का नाटक शुरू कर दियाl
अब आगे..

काका- अरे रोती क्यों है पगली.. मेरी बात तो सुन, मैं किसी को कुछ नहीं बताऊंगा.. अरे अगर बताना होता तो उसी समय उस कुत्ते को जान से मार देता जब वो तुझे छू रहा था, मगर मुझे अपनें घर की इज़्ज़त का ख्याल हैl बस इसी लिए चुपचाप वापस नीचे आ गयाl

काफ़ी देर तक काका नें मोना को समझाया तब कहीं जाकर वो चुप हुई और काका के पास बिस्तर पे बैठ गईl

काका- बेटी तू शादीशुदा है, अपना अच्छा-बुरा अच्छे से जानती हैl फिर ये नौबत क्यों आई कि एक पराए मर्द के पास तुझे ऐसे आधी रात को जाना पड़ा?
मोना- काका मैं कुछ बोलूँगी तो आपको बुरा लगेगा.. इसलिए ये बात आप ना ही पूछो तो अच्छा होगाl
काका- अरे ऐसे कैसे ना पूछू.. तू मेरे घर की बहू है.. क्या कमी है गोपाल में? जो तुझे राजू जैसे नामर्द के पास जाना पड़ा?
मोना- काका अगर ऐसी बात है.. तो सुनो आप राजू को नामर्द कह रहे हो ना.. तो आपका गोपाल भी राजू जैसा ही है.. एक बार में आउट हो जाता है वो भी चंद मिनटों में,

शुरू से अब तक की सारी कहानी मोना नें काका को बताई कि कैसे वो दूसरे मर्द की तरफ़ आकर्षित हुईl

मोना की बात सुनकर काका को दुख हुआ और साथ आँखों में चमक भी आ गई, शायद वो मोना को भोगनें का मन बना चुके थेl काका नें अपना हाथ मोना की पीठ पर रखा और धीरे-धीरे फेरते हुए वो मोना से बोले- देखो बेटी, किस्मत का लिखा तो मैं बदल नहीं सकता मगर तुमको तुम्हारे हिस्से की ख़ुशी जरूर दे सकता हूँl

मोना समझ गई कि काका क्या कहना चाहते हैं.. मगर वो अनजान बन कर पूछनें लगी- कैसे.. आप मुझे ख़ुशी कैसे दोगे?

काका नें अब अपना हाथ पीठ से धीरे से मोना के सीनें पर रख दिया- देखो बेटी किसी अनजान मर्द से अच्छा तो ये है कि मैं ही तुझे खुश कर दूँ.. अगर तुझे एतराज़ ना हो?
मोना की चुत तो वैसे ही जल रही थी उसे तो बस लंड चाहिए था.. चाहे वो किसी का भी हो.. मगर काका की उम्र को देख कर उसको थोड़ा शक हुआ तो वो काका को उकसानें के लिए बोली- रहनें दो काका.. आपसे कहाँ कुछ दिया जाएगा, गोपाल भी तो आपके ही खेत की फसल है.. अब वो जवानी में ऐसा है तो आपकी तो उम्र हो गई है.. आपसे कहाँ कुछ हो पाएगा?
काका- अरे बेटा फसल को कीड़ा भी लगता है.. उसी तरह शहर की हवा में गोपाल ऐसा हो गया, मगर मैं आज भी जवान ही हूँ.. यकीन ना आए तो खुद देख लोl

इतना कहकर काका नें मोना का हाथ पकड़ा और अपनें लंड पे रख दियाl
जैसे ही मोना नें लंड को महसूस किया, उसकी आँखें फटी की फटी रह गईl क्योंकि धोती के अन्दर जो चीज थी वो काफ़ी भारी भरकम थीl
मोना- काका ये क्या है.. इतना बड़ा?
काका- अभी कहाँ बड़ा है मोना रानी, इसे प्यार से छू.. फिर देख कितना बड़ा होता है येl

काका अब अपनें रंग में आ गए थेl वे मोना को बेटी से सीधे रानी बोलनें लगे और साथ ही मोना की चुची सहलानें लगे थेl मोना को तो ऐसे ही किसी मौके की तलाश थी.. मगर काका उसके पति के काका थे तो वो शर्मानें का नाटक करनें लगी- नहीं, मुझे आपसे बड़ी शर्म आ रही है.. मैं आपका ‘ये’ नहीं सहला सकतीl

काका पर अब सेक्स चढ़ चुका था, वो मोना के मम्मों को दोनों हाथों से मसलनें लगे थे और बीच-बीच में उसकी चुत को भी दबा देतेl
मोना- आह.. काका ऐसा मत करो.. मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा आह.. प्लीज़ आह.. कुछ हो जाएगाl
काका- अरे मोना रानी ऐसे शर्मा मत.. जो होगा उसको होनें दे, उसी में सबकी भलाई हैl आज पूरी कर ले अपनी इच्छा, नहीं तो जिंदगी भर पछताएगीl

मोना नें काका के लंड को पकड़ लिया और धीरे-धीरे सहलानें लगी- काका, किसी को पता चल गया तो क्या होगा?
काका- अरे रानी घर में कोई नहीं है.. किसी को कानों-कान खबर नहीं होगी.. चल अब देर ना कर,
मोना- मैं कहाँ देर कर रही हूँ काका, देर तो आप कर रहे हो, जो अब तक कपड़ों के ऊपर से ही मेरे जिस्म को सहला रहे होl

अब मोना नें खुला निमन्त्रण काका को दे दिया था और काका भी कहाँ पीछे रहनें वाले थे, उन्होंनें झट से मोना की नाईटी निकाल दी और ऊपर से नीचे तक उसको निहारनें लगेl
मोना नें अपनें मम्मों को काका के होंठों की तरफ उठाया और बोली- काका, देखते ही रहोगे क्या या कुछ करोगे भी?

काका- रुक मेरी रानी.. मुझे आराम से तेरी जवानी को निहार लेनें दे.. उस दिन ब्रा में कसी तेरी चुची देख कर भगवान से प्रार्थना की थी कि एक बार ये चुची नंगी देखनें को मिल जाएं और आज देखो भगवान नें मेरी सुन लीl
मोना- ये आप क्या कह रहे हो, आपनें कब देखा मुझे ब्रा में?
काका- अरे जब तू कपड़े बदल रही थी ना.. तब देखा थाl मन तो उसी वक़्त किया कि तेरे रसीले मम्मे चूस लूँ मगर तू इस घर की बहू है, तो तुझे बख्श दियाl
मोना- हे राम.. मुझे लगा भी था कि कोई मुझे देख रहा हैl काका आप तो बड़े चुदक्कड़ हो?

काका- अरे रानी मेरी चुदाई तूनें अभी देखी कहाँ है, इस गाँव की ना जानें कितनी कुँवारी सील मैंनें ही तोड़ी हैं और कई शादीशुदा लड़कियों को चोद कर उनको मज़ा भी दिया हैl
मोना- काका आप इतनें बड़े चोदू हो फिर भी आपके कोई औलाद नहीं.. ये कैसे हो सकता है?
काका- अरे पागल, तेरी काकी बांझ है मेरे तो ना जानें कितनें बेटे और बेटियां इस गाँव में घूम रहे हैंl
मोना- वो कैसे काका.. मैं समझी नहीं कुछ?
काका- अरे रानी कई ऐसी औरतें मेरे से चुदी हैं.. जिनके पति उनको माँ ना बना सके और मैंनें उनकी गोद भर दी तो इस हिसाब से मेरे कई बच्चे हुए ना.. हा हा हा हा..
काका के साथ मोना भी हँसनें लगीl

काका- बस मेरी जान ये सवाल बहुत हो गएl अब तू अपनें काका की चुदाई देख, फिर बताना मज़ा आया कि नहींl
मोना- अपनें अजगर को तो आज़ाद कर दो काका, वो कब से अन्दर तड़प रहा है बेचाराl
काका- उससे ज़्यादा तो तू तड़प रही है उसे देखनें के लिए.. चल तू खुद उसको आज़ाद कर देl

मोना धीरे से काका के पास को हो गई और उनकी धोती को खोल कर साइड में रख दीl अन्दर से काका का 9″ का लंड फनफनाता हुआ बाहर निकला, उसकी मोटाई भी बहुत थी जिसे देख कर एक बार तो मोना डर गई- हे राम.. काका इतना बड़ा ये कैसे जाएगा अन्दर?
काका- अरे रानी, ये तो कमसिन कली की चुत में पूरा समा जाता है.. तू तो खेली खाई हैl चल आजा प्यार कर इसको फिर देख ये तुझे कैसे जन्नत की सैर कराता हैl

मोना अपनें घुटनों पे बैठ गई और लंड पर अपनी जीभ बड़े प्यार से घुमानें लगीl वो लंड को चाट रही थी और साथ ही साथ काका की गोटियों को भी हाथ से सहला रही थीl
काका- आह.. उम्म्ह… अहह… हय… याह… चूस रानी.. चूस.. आज बड़े दिनों बाद मेरे लंड पे किसी के होंठ लगे हैं.. आह.. आहl

लगभग 5 मिनट तक मोना पागलों की तरह लंड को चूसती रहीl वो पूरा लंड मुँह में भर रही थी और काका उसके मुँह को चुत समझ कर चोदनें में लगे हुए थेl

मोना- बस काका अब बर्दाश्त नहीं होता.. घुसा दो अपना बम्बू मेरी चुत में.. कर दो इसे ठंडा..,
काका- मेरी मोना रानी.. ऐसे थोड़ी सीधे घुसा दूँगा, पहले तेरी चुत का रस पीऊंगा तुझे जल बिन मछली की तरह तड़पाऊंगा उसके बाद कहीं तेरी चुदाई करूँगाl

काका नें मोना को बिस्तर पर चित्त लेटा दिया और उसके मम्मों को चूसनें लगाl फिर धीरे-धीरे काका उसके पूरे जिस्म को ऐसे चाटनें लगा जैसे वो कोई रसमलाई हो और आख़िर में जब काका के गर्म होंठ उसकी चुत पर जा लगेl मोना नें एक लंबी सांस ली और उसकी चुत का झरना बह गयाl

मोना- आआहह सस्स्सस काका ओप्पस एयाया सस्स्स..
काका भी पका हुआ रंडीबाज था.. सारा रस जीभ से चाट गयाl

काका- अरे मेरी मोना रानी.. बहुत जल्दी झड़ गई.. तूनें तो ठीक से चुत को चूसनें भी नहीं दियाl
मोना- कब से वासना की आग में जल रही थी.. ऊपर से अपनें मेरी आग को और भड़का दिया तो मुझसे बर्दाश्त ना हुआl
काका- अच्छा हुआ जो झड़ गई.. अब मेरे लंड से दोबारा झड़ना तू.. ले संभाल मेरे मूसल कोl

इतना कहकर काका नें लंड चुत पे टिकाया और जोर का झटका मार दिया.. आधा लंड चुत को फैलाता हुआ अन्दर घुस गयाl
मोना- आऐय यइ उफफफफ्फ़ बहुत मोटा है आपका आह.. आराम से जान लोगे क्या?

काका नें मोना की बात अनसुनी करते हुए लंड को पीछे खींचा और फिर से एक जोरदार दे धक्का दियाl इस बार पूरा 9″ का लंड मोना की चुत में खो गया.. उसके साथ ही मोना की चीख निकल गईl

मोना- आआआ आआआ आआआअ..
काका- अरे चिल्लाती क्यों है रानी.. गोपाल नें तेरी चुत को आधा ही खोला था आज मैंनें पूरी चुत खोल दी.. अब तू मज़े लेl

काका को ऐसी मस्त चुत मिल गई, वो अब कहाँ रुकनें वाले थे.. उन्होंनें मोना को रेल बना दियाl लंड के दे झटके.. दे झटके.. काका तो इस वक्त रेस के घोड़े बनें हुए थे और मोना हर बार चीख कर रह जातीl

करीब 15 मिनट तक चुदाई चलती रहीl अब मोना की चुत में लंड बराबर फिट हो गया था और उसको अब बड़ा मज़ा आ रहा थाl

मोना- आह.. आ सस्स काका उफ़फ्फ़ मैं गई.. आह जोर से चोदो.. आआ आआ मेरा रस निकल रहा है एयाया सस्सस्स गई आह..
काका- ले आह.. साली रांड ले आह.. ज्ज़र..जा आज आह तेरी चुत को आह.. पूरा सुकून देके मानूँगा ले आह.. ले..

काका झटके पे झटके लगा रहा था और मोना की चुत पानी झड़ रही थीl जब मोना झड़ के शांत हो गई तो उसको अब चुत में जलन सी होनें लगीl

मोना- आह.. काका आह.. अब निकाल भी दो अपना पानी आह.. कब तक चोदोगे आइईइ चुत जलनें लगी है अब तो आह..
काका- उहह उहह साली रांड ये तेरे नामर्द पति का लंड नहीं है जो जल्दी ठंडा हो जाएगा आह.. ले ले गाँव का तगड़ा लंड है आह.. आ पूरा मज़ा लेकर ही झड़ेगाl

इधर काका के संग मोना की चुदाई चल रही है इसका आगे भी मजा लेते रहेंगेl

loading...

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *