loading...

चुत चुदाई की दास्तां-4

Hindi sex story, hindi sex kahani, rialkahani,bhabhi ki chudai

मेरे प्यारे साथियो, आप मुझे मेरी इस सेक्स कहानी हिंदी पर कमेंट्स कर सकते हैं पर एक इल्तिजा है कि आप मर्यादित भाषा में ही कमेंट्स करें क्योंकि मैं एक सेक्स कहानी हिंदी की लेखिका हूँ, बस इस बात का ख्याल करते हुए ही सेक्स कहानी हिंदी का आनन्द लें और कमेंट्स करें,

इस सेक्स कहानी हिंदी में अब तक आपनें पढ़ा कि गोपाल के दादा जी के मर जानें से मोना की चुत चुदाई से वंचित रह गई थी और दूसरी तरफ सुमन से उसके ग्रुप के लोग गुस्सा थे कि सुमन ग्रुप में शामिल होकर भी बिंदास नहीं हो पा रही हैl
अब आगे..

सुमन- संजय जी, मैं क्या करूँ? मुझे कुछ समझ ही नहीं आ रहा.. कैसे मैं कुछ करूँ.. आप ही प्लीज़ कुछ बताओ मैं क्या करूँ?
संजय- एक तरीका है.. मैं तुम्हें जो करनें को कहूँ, वो चुपचाप बिना सवाल के करती जाना और हाँ अगर ‘ना’ कही.. तो उसी वक़्त तुम हमारे ग्रुप से बाहर हो जाओगीl उसके बाद ये सब मिलकर क्या करेंगे.. मुझे नहीं पता,
सुमन- जी संजय जी, जैसा आप कहोगे, मैं करनें को तैयार हूँ, प्लीज़ आप गुस्सा मत हो बस,

संजय- आज मैं टीना को सब कुछ एक बुक में लिख कर दे दूँगा.. वो तुम्हें रोज एक टास्क देगी, तुमको उसे पूरा करना होगा और जिस दिन तुम सारे टास्क पूरे कर दोगी, समझो तुम हमारी पक्की वाली फ्रेंड बन गई होl
सुमन नें भी मुस्कुरा के संजय की बात मान ली और ‘अभी के लिए कोई टास्क दो’ ऐसा कहकर सबको चौंका दियाl

संजय- वाउ ये हुई ना बात.. तो चलो अभी के लिए तुम्हारा टास्क ये है कि यहाँ से वो सामनें तक तुम किसी मॉडल की तरह कैटवॉक करोl
वीरू- यार, ये क्या टास्क हुआ?
वीरू आगे बोलता संजय नें गुस्से से उसको देखा और वो चुप हो गयाl

टीना- क्यों सुमन कर पाओगी ये?
सुमन नें बिना कुछ बोले संजय की तरफ़ देखा और खड़ी होकर बड़ी अदा के साथ टास्क पूरा करनें चल पड़ी, मगर वो कहते है ना शराफत का नकाब इतनी आसानी से नहीं उतारा जा सकता, तो सुमन शुरू तो बड़े जोश में हुई मगर जब सबकी नज़रें उस पर गईं तो वो शर्म से पानी-पानी हो गई और स्पीड में टास्क पूरा किया, सबके सब उस पर हंसनें लगेl

सुमन- सॉरी मैं घबरा गई थी मगर मैंनें किया ना.. और अबकी बार अच्छे से करूँगीl
संजय- गुड गर्ल.. बस आज से तुम्हारी ट्रेनिंग शुरू हो गई है, अब तुम जाओ, तुम्हारी क्लास का टाइम हो गया हैl

सुमन ख़ुशी-ख़ुशी वहाँ से चली गई उसके जानें के बाद सबनें कहा कि कोई हार्ड काम करवाते उससे.. ये क्या टुच्चा सा टास्क दे दिया?

संजय- सालो, तुम सबको अक़ल है कि नहीं.. मुझे उसे बड़े प्यार से रंडी बनाना है.. ऐसे जल्दबाज़ी में काम बिगड़ सकता हैl टीना तुम सुनो शाम को मैं तुम्हें एक बुक दूँगा, उसके हिसाब से ही तुम सुमन को टास्क दोगी, अपनी तरफ़ से कोई एक्सट्रा काम ना करना.. वरना मेरा गुस्सा तो तुम्हें पता ही हैl
टीना- ठीक है संजू.. मगर मेरी एक बात समझ नहीं आ रही वो मेरे सामनें तो शायद वो सब कर दे जो तुमनें बताया है मगर तुम्हारे सामनें कैसे करेगी?
संजय- तेरी समझ मेरी समझ से बहुत कम है.. शाम को बुक में देख लेना सब समझ आ जाएगाl

विक्की- यार जब वो साली गांड को मटका कर चल रही थी.. बड़ा मज़ा आ रहा थाl मेरा मन तो कर रहा था कि साली की गांड में लंड घुसा दूँ, मगर ये हमारे संजय साहेब जो हैं, वो प्यार से इसको नंगी करेंगेl अब ना जानें वो दिन कब आएगा?
साहिल- अबे चुत के हब्शी.. क्यों उसके पीछे पड़ा है.. अभी कली है थोड़ा खिलनें दो, उसके बाद उसकी खुशबू सबको मिल जाएगी.. हा हा हा हा हा..

दोस्तो, यहाँ अब हमारे मतलब का कुछ नहीं, तो चलो वापस मोना के पास वहाँ शायद कुछ मिल जाएl

गोपाल जब वापस आया तो मोना नें अपना मूड बदल लिया था और उसको सॉरी भी कहाl बस फिर क्या था दोनों नें जल्दी से पैकिंग की और गाँव के लिए निकल गएl

दोस्तो, मैं आपको बता दूँ गोपाल के घर में उसके माँ-बाप के अलावा एक चाचा और चाची हैं, जिनकी कोई औलाद नहीं है और गोपाल भी इकलौता ही है.. एक दादा थे जो चल बसेl

शाम को गाँव में जब ये लोग पहुँचे, वहाँ दुख का माहौल था.. सभी रिश्तेदार जो आए हुए थे, वो रोनें में लगे हुए थेl देर रात तक सारी क्रिया समाप्त हुई, उसके बाद सबके सोनें का बंदोबस्त किया गयाl मोना और गोपाल को जगह नहीं मिली तो गोपाल के चाचा नें गोपाल को कहा कि तुम छत पर चले जाओ और भी लोग वहाँ है और बहू वहाँ बच्चों वाले कमरे में सो जाएगीl

दोस्तो, वैसे तो यहाँ कोई बचा नहीं है मगर इतनें मेहमान आए हैं तो उनके साथ कुछ बच्चे भी हैं, जिनको एक साथ सुला दिया थाl अब यहाँ सबका इंट्रो देनें का कोई मतलब नहीं, जो खास हैं उनके बारे में जान लोl

राम ठाकुर गोपाल के पिता उम्र 53 साल, ठीक-ठाक सी कदकाठी हैl इनकी वाइफ निर्मला देवी उम्र 45 साल, ये भी नॉर्मल हाउस वाइफ हैंl उसके बाद हरी ठाकुर ये गोपाल के चाचा हैं, इनकी उम्र लगभग 50 साल के आस-पास है, हट्टे-कट्टे शरीर वाले हैंl इनकी पत्नी गायत्री.. उम्र 42 साल की है, ये भी घरेलू टाइप की महिला हैंl

हरी- बहू, वो सामनें कमरा है, वहाँ चली जाओ… सारे बच्चे वहीं हैं, तुम भी उनके पास कहीं लेट जाना.. बस एक दो दिन की तकलीफ़ है, फिर तो ज़्यादातर मेहमान चले ही जाएंगेl
मोना- वो चाचा जी.. मैं जब से आई हूँ इसी साड़ी में हूँ.. पसीनें के कारण ये कड़क हो गई है.. मुझे कपड़े बदलनें हैंl
हरी- अरे मुझे सब काका बुलाते है तू भी काका ही बोल.. और कपड़े बदलनें है तो वो बाहर देख सामनें गुसलखाना है, वहाँ बदल लेl

दोस्तो, गाँव का माहौल तो आपको पता ही है वहाँ पक्के बाथरूम कम ही मिलते हैं. तो बाहर आँगन में एक छोटा सा बाथरूम बना था, जिसमें साइड में पत्ते लगे थे और उनमें बहुत से छेद थे, यानि बाहर वाला अन्दर का नजारा कहीं से भी आराम से देख सकता थाl

मोना- काका जी, काकी कहाँ हैं, वो शाम से नज़र नहीं आ रही हैंl
हरी- अरे यहाँ रिवाज है ससुर के मरनें पर घर की बहू को रात दूसरे घर में बितानी होती है.. वो पास के घर में सोई हैं, कल आ जाएगीl
मोना- अच्छा ये बात है.. तब तो माँ जी भी साथ होंगी?
हरी- हाँ वो भी वहीं हैं . अब तू ज़्यादा बातें ना कर.. सवेरे जल्दी उठना है.. जल्दी कपड़े बदल और सो जाl
मोना- बाहर बहुत अंधेरा है काका, मुझे डर लगता है.. आप थोड़ा साथ चलो ना,

मोना का डरा हुआ चेहरा देख कर काका को हँसी आ गई, वो उसके साथ आँगन में आ गएl उसके बाद मोना बाथरूम में चली गईl

मोना नें पहले साड़ी को उतार के साइड में रख दिया उसके बाद ब्लाउज और पेटीकोट भी निकाल दियाl अब वो सिर्फ़ नीले रंग की ब्रा-पैंटी में थी, उसका कसा हुआ जिस्म देख कर किसी की भी नियत बिगड़ जाए और मोना को ऐसा लगा भी कि शायद बाहर से उसे कोई देख रहा हैl उसनें जल्दी से दूसरी साड़ी पहनी और बाहर आ गईl

काका पहले जहाँ खड़े थे.. अभी भी वहीं थेl मोना नें सोचा कि काका के अलावा तो यहाँ कोई है भी नहीं.. शायद उसका भ्रम रहा होगा.. ये सोच कर वो अन्दर जाकर सो गईl

दोस्तो, टीना को शाम को संजय नें एक बुक दे दी थी, उसके हिसाब से टीना को आगे का खेल खेलना था, जिसकी शुरूआत उसनें कर दीl
वो सीधी रात को सुमन के घर चली गईl

सॉरी आपको में बताना भूल गई अब इत्तफाक कहो या कहानी की जरूरत, टीना की मॉम को घर शिफ्ट करना पड़ा और उनका नया घर सुमन के घर से बस कुछ ही दूरी पे थाl

टीना- नमस्ते आंटी जी.. मुझे सुमन से थोड़ा काम है.. वो कहाँ है अभी?
हेमा- अरे आओ आओ बेटी.. वो अपनें कमरे में है, जाओ मिल लो तब तक मैं कुछ खानें को लाती हूँl
टीना- अरे नहीं आंटी.. मैं अभी खाना खा कर ही आई हूँ, प्लीज़ आप कोई तकलीफ़ ना करें, ओ के,

इतना कहकर टीना सीधी सामनें सुमन के कमरे में चली गई जिसे देखकर सुमन खुश हो गईl

सुमन- अरे टीना, आप यहाँ कैसे आना हुआ आपका?
टीना- मैंनें क्या समझाया था मुझे आप नहीं तुम बोलो.. इससे दोस्ती का अहसास होता है और मेरे आनें की वजह है तुम्हारा टास्क जो तुम्हें देनें आई हूँl
सुमन- इस टाइम वो भी मेरे घर में.. ये कौन सा टास्क है?
टीना- मेरी जान ये सिलसिला घर से ही शुरू होगा, पहले ये बता तेरे पापा कहाँ हैं?
सुमन- वो तो दुकान पर हैं, देर से आएँगे.. क्यों?
टीना- तब ठीक है, अब शुरू होता है तेरा आज का टास्क.. तो सुन,

टीना बोलती रही और सुमन आँखें फाड़े उसकी बातें सुनती रहीl टीना नें अपनी बात पूरी करके जब सुमन को देखा तो उसको आँख मार कर शुरू होनें को कहाl

सुमन- नहीं नहीं.. ये मेरे से नहीं हो सकता टीना तुम बात को समझो ये उफ़फ्फ़ कैसे होगा ये?
टीना- ओके मत करो.. ये मैं नहीं कह रही, ये सब संजय नें इस बुक में लिखा हैl अब लास्ट बार बोलो करना है या मैं वापस जाऊं… फिर तुम ही कल संजय को जवाब दे देनाl
सुमन- नहीं.. जरा रूको, मगर मेरे ये करनें से क्या होगा?
टीना- तेरे अन्दर थोड़ी झिझक है.. थोड़ा डर है, ये सारे टास्क उनको ख़तम करनें के लिए हैंl अब मैं भी तो लड़की हूँ मेरे सामनें तो तुम नंगी हो ही सकती हो और वैसे भी सिर्फ़ कपड़े निकालनें हैं, ब्रा और पैंटी नहीं.. समझी,
सुमन- वो तो निकाल दूँ मगर उसके बाद जो करना है वो सोच कर ही डर लग रहा है.. कही मॉम को पता लग गया तो?
टीना- देख यार मुझे ये सब नहीं पता अगर नहीं करना तो मैं जाती हूँ, मेरे पास ज़्यादा टाइम नहीं हैl

इतना कहकर टीना उठ कर जानें लगी तो सुमन डर गई और उसनें जल्दी से अपनी कमीज़ निकाल दीl

सुमन- दीदी रूको, देखो मैंनें निकाल दिया अब कुछ नहीं बोलूँगी.. प्लीज़ आप मत जाओ ना,
टीना- अरे क्या बात है दीदी.., चल ठीक है अब ये भी निकाल देl

सुमन नें सलवार भी निकाल दी.. अब उसके 32″ के गोल चूचे सफ़ेद ब्रा में से निकल भागनें को मचल रहे थेl सफ़ेद पेट मक्खन की तरह चिकना था.. उसकी पतली कमर किसी को भी दीवाना बनानें के लिए काफ़ी थी और उसकी पैंटी का उभार साफ दर्शा रहा था कि अन्दर चुत किसी डबलरोटी जैसी फूली हुई हैl

टीना- वाउ अब लगी ना हमारे टाइप की.. चल अब कोई चादर ओढ़ और मेरे साथ छत पर चलl

सुमन नें एक बड़ी सी चादर अपनें जिस्म पर लपेट ली और डरते हुए कमरे से बाहर निकली तो उसकी माँ से उसका सामना हो गयाl

अब सुमन को संजय के मुताबिक़ करनें का सिलसिला शुरू हो गया था

loading...

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *