loading...

चुत चुदाई की दास्तां-3

Hindi sex story, hindi sex kahani, rialkahani,bhabhi ki chudai

अब तक की सेक्स स्टोरी में आप सभी नें पढ़ा था कि सुमन नें संजय के ग्रुप से हाथ मिला लिया था ताकि वो रैगिंग से बच सकेl
अब आगे..

टीना- संजू ये क्या नया फंडा है.. आज तक ऐसा नहीं हुआ कि हम किसी को बिना रैंगिंग के जानें दें और दूसरी बात उसको ग्रुप में शामिल भी कर लिया, ये बात कुछ समझ नहीं आ रही?
संजय- मेरी जान इसी लिए तो आई एम द ग्रेट संजय.. अभी जो कहूँ.. सब के सब वो करो, बाकी बाद में सबको ये फंडा भी समझा दूँगाl
वीरू- संजय भाई, कहीं साली तेरे पे दिल तो नहीं आ गया ना?
टीना- अगर ऐसा हुआ तो जान से मार दूँगी उस कुतिया को.. संजय सिर्फ़ मेरा है और मेरा ही रहेगा हा हा हा हा..
टीना के साथ-साथ सब हंसनें लगेl

साहिल- टीना ये क्या फिल्मी डायलॉग मार रही थी तू?
टीना- अरे मजाक यार.. हाँ मानती हूँ मैं संजय को पसंद करती हूँ मगर उसकी वजह क्या है ये तो सब को पता ही हैl अब ये उसको चोद कर छोड़ दे या प्यार करे.. आई डोंट केयरl
अजय- ही ही टीना.. ऐसी बात मत कर यार, मेरी तो पैन्ट में हलचल शुरू हो जाती हैl
टीना- अबे चल साले चूतिये.. मूंगफली जितना तो लंड है तेरा.. उसमें क्या हलचल होगीl
साहिल- टीना तू तो साली पक्की रंडी है. जब देखो चुत और लंड की बातें लेकर बैठ जाती हैl
टीना- अबे चुप साले बहनचोद मुझे ज़्यादा ज्ञान मत दे.. जब तू चुदाई करता है मेरी तब तो बड़ा प्यार जताता है साला अब मुझे रंडी बोल रहा है!

वीरू- अरे यार आपस में झगड़ा मत करो, वैसे टीना चुदाई के वक़्त तो तू खुद कहती है मुझे गालियाँ दो.. रंडी कहो और अभी चिढ़ रही होl
टीना- अबे वो टाइम बात कुछ और होती है और अभी कोई सुन लेगा तो क्या कहेगा.. समझा!
विक्की- यार, इस सबको गोली मारो और टीना तुमनें जो ग्रुप सेक्स का वादा किया था.. उसका क्या हुआ?
टीना- सालों, सबके लंड लेकर मैंनें देख लिया हैl अब एक साथ सब करोगे तो मेरी हालत पतली हो जाएगी और वैसे भी इस पिद्दी को छोड़ के तुम चारों के लंड बड़े पॉवर वाले हैं, ना बाबा मुझे अपनी चुत फड़वानी है क्या?

अजय- चुत तो तेरी तभी फट गई थी जब संजय नें तुझे पहली बार चोदा था अब कैसा डर..? मान जा ना मज़ा आएगा यार!
टीना- सालों बहुत बड़े चूतखोर हो सब के सब.. मैंनें कितनी लड़कियों की सील तुम सब से तुड़वाई है, ये सब भूल गए क्या जो अब मेरे पीछे पड़े हो?
संजय- अरे अब सबका इतना मन है तो मन जा.. एक-एक करके चुदवाए या एक साथ.. क्या फ़र्क पड़ता है?
टीना- अच्छा बाबा, ठीक है.. मान गई बस मगर कोई अच्छी सी जगह का इंतजाम कर लो.. साथ में फुल बियर का भी इंतजाम हो तभी मज़ा आएगाl

संजय नें ‘हाँ’ कह दी, तो सबके सब खुश हो गएl

दोस्तो, टेंशन मत लो, ये टीना सच में रंडी टाइप की है, ये संजय की गर्लफ्रेंड जरूर है.. मगर ना जानें आज तक कितनें लंड ले चुकी है, इसलिए इनको जानें दो.. आगे की कहानी देखोl

टीना- यार संजय प्लीज़.. अब तो बता दे तेरा ये सुमन के साथ क्या करनें का इरादा है?
संजय- यार मैंनें आज तक इतनी सीधी-साधी लड़की नहीं देखी वो भी यहाँ मुंबई में, इसकी सादगी और हुस्न की मिलावट को मैंनें गौर से देखा है, मेरा तो इसको बस देखते रहनें का मन कियाl
विक्की- क्या बात है प्यार-व्यार हो गया क्या तुझे हाँ..?

वीरू- अरे काहे का प्यार.. सीधे अल्फ़ाज़ में बोल ना उसको चोदना चाहता हैl
संजय- अबे चुप सालों.. ऐसी कमसिन कली को चोदना कौन नहीं चाहेगा? मगर ये साथ दे तो ज़्यादा मज़ा आएगा.. मगर इसको देख कर तुम लोगों को क्या लगता है कि ये साथ दे पाएगी?
टीना- अरे क्यों नहीं देगी? जब 4 पैग अन्दर जाएंगे.. साली रंडी बन जाएगी.. उसके बाद चुत चुदाई का पूरा मज़ा देगीl

संजय- नहीं.. यही तो मैं नहीं चाहता कि ये किसी नशे का शिकार होकर मज़ा दे, तुम ज़रा सोचो ऐसी भोली लड़की.. जिसको अपना साइज़ तक पता ना हो, अगर वो अपनें मन से खुलकर सेक्स करें तो बड़ी-बड़ी रंडियों को पीछे छोड़ देगी.. क्योंकि इतनें सालों जो शराफत का परदा ओढ़ रखा था, वो हट जाएगा और उसके अन्दर की रंडी बाहर आ जाएगीl

टीना- इसका मतलब तुमनें कुछ सोच लिया है.. तभी उसको ग्रुप में शामिल किया हैl
संजय नें ‘हाँ’ में गर्दन हिलाई और अपना प्लान उन सबको बताया, जिसे सुनकर सबके चेहरे पे ख़ुशी आ गईl
अजय- यार उसके चूचे बड़े प्यारे हैं… क्या समोसे से नुकीले तनें हैं.. बस सबसे पहले में उनकी नोकों को अपनें होंठों के बीच दबाना चाहूँगाl
साहिल- अबे चुप.. सारा दिन एक ही बात.. चलो अन्दर वो हरामी वर्मा सर की क्लास है आजl

साहिल की बात सुनकर सब वहाँ से चले गए.. तो अब हम क्यों इनके साथ जाएं.. चलो आगे बढ़ते हैंl

उधर दोपहर तक गोपाल सुकून की नींद सोता रहा, तब तक मोना नें भी अपनें आपको संभाल लिया था और खाना बना कर फ्री हो गई थीl
मोना नें गोपाल को उठाया और खुद टीवी देखनें बैठ गईl

तकरीबन आधा घंटा बाद गोपाल फ्रेश होकर आया और मोना को पीछे से बांहों में जकड़ लियाl
मोना- ये क्या है गोपाल.. जब करना होता है तुम करते नहीं, चलो खाना खा लो, नहीं तो ठंडा हो जाएगाl
गोपाल- अरे ऐसे कैसे.. मेरी बीवी तो इतनी गर्म है और मुझे खानें के लिए बोल रही हैl मेरी जान अभी खानें के बाद कोई दूसरा काम नहीं.. बस आज तेरी सारी शिकायत दूर कर दूँगा.. इतना चोदूंगा.. इतना चोदूंगा कि दो दिन तक तुम खुद ना ना कहोगीl
मोना- रियली तुम ऐसा करोगे..! तो फिर जल्दी से खाना खा लो नाl

मोना बेचारी सीधी-साधी.. गोपाल की बात सुनकर पिघल गई, उसका गुस्सा न जानें कहाँ का कहाँ चला गया.. उसके बाद दोनों नें अच्छी तरह से लंच किया और टीवी के सामनें बैठे एक-दूसरे को देख कर मुस्कुरानें लगेl

गोपाल- क्यों जानेंमन, अब क्या इरादा है.. खाना तो हो गया अब अपनी रसीली चुत का रस भी पिला देl
मोना- आ जाओ मेरे गोपू.. किसनें रोका है मुझसे भी अब इन्तजार नहीं होताl

इतना कहकर मोना कमरे में गांड मटकाती हुई चली गईl उसके पीछे-पीछे गोपाल भी अन्दर आ गया और उसको बिस्तर पर लेटा कर उसके जिस्म को दबोचनें लग गयाl

मोना भी वासना से भरी हुई थी, वो भी पागलों की तरह गोपाल को किस करनें लगीl

करीब 5 मिनट तक दोनों एक-दूसरे को चूमते-चाटते रहे, इस दौरान गोपाल नें मोना को नंगी कर दिया था और उसके निप्पल चूस रहा थाl
मोना- आह.. आ अइ गोपू आह.. अब बस भी करो आह.. पहले मेरी चुत को शांत करो आह.. उसके बाद जितना मर्ज़ी मज़े ले लेनाl

गोपाल कुछ बोलता या करता, तभी उसके फ़ोन की रिंग कमरे में गूंजनें लग गई.. उसका ध्यान फ़ोन की तरफ़ गया तो मोना नें उसको मना कियाl
गोपाल- अरे एक मिनट रूको तो शायद बॉस का फ़ोन होl
मोना- आह.. प्लीज़ गोपाल आह.. मत उठाओ उफ़ मेरी चुत जल रही है आह..

गोपाल नें मोना की एक नहीं सुनी और फ़ोन उठा लिया और बातें करता हुआ थोड़ा टेंशन में आ गयाl
कुछ देर गोपाल नें फ़ोन पर बात की उसके बाद मोना की तरफ़ देखनें लगाl
मोना- क्या हुआ गोपाल सब ठीक तो है ना.. तुम इतनें टेंशन में क्यों आ गए हो बताओ ना प्लीज़?
गोपाल- गाँव से फ़ोन था.. दादा जी नहीं रहे.. हमें आज रात ही गाँव जाना होगाl

यह बात सुनकर मोना की तो हालत पतली हो गई, कहाँ तो उस पर सेक्स का खुमार चढ़ा हुआ था और कहाँ ये बुरी खबर सुननें को मिलीl
मोना खड़ी हुई और गोपाल के पास आकर उसके चेहरे को देखनें लगीl

गोपाल- मोना प्लीज़ अब ये मत कहना की मेरी चुत को शांत करो.. मेरा ये सब करनें का अब बिल्कुल मूड नहीं है और मुझे अभी बॉस के घर जाना होगा, कुछ दिनों की छुट्टी लेनी होगीl
मोना- गोपाल तुम ये कैसी बातें कर रहे हो.. ऐसी बात सुनकर मैं ये सब कहूँगी क्या.. हाँ! तुमनें मुझे क्या समझ रखा है?
गोपाल- देखो मोना मेरा दिमाग़ मत खराब करो.. वैसे भी दिन पे दिन तुम्हारी चुदाई की भूख बढ़ती जा रही है.. एक रंडी की तरह तुम हरकतें कर रही होl

गोपाल नें गुस्से में जो कहा उसे सुनकर मोना का पारा सर पर चढ़ गयाl एक तो वैसे ही सेक्स उसके दिमाग़ में चढ़ा हुआ था.. ऊपर से ये बातें उसको बहुत बुरी लगींl वो गोपाल से बुरी तरह झगड़नें लग गई और गोपाल भी गुस्से में था, तो उसनें भी ना जानें क्या से क्या बोल दियाl उसके बाद कपड़े पहनें और घर से बाहर निकल गयाl

मोना वहीं बैठी देर तक रोती रहीl

मोना का रोना-धोना क्या देखना चलो सेक्स स्टोरी के दूसरी तरफ देखते हैंl

दोस्तो, सुमन अब उनके ग्रुप में शामिल हो गई थीl अब रोज उनके साथ उठना बैठना, बातें करना और कभी-कभी नए स्टूडेंट की रैंगिंग करना, ये सब उनके बीच चलनें लगा और ऐसे ही कुछ दिन निकल गएl

एक दिन कॉलेज की कैंटीन में सुमन उन सबके साथ बैठी हुई थीl

विक्की- यार टीना इतनें दिन हो गए… मगर ये सुमन हमारे बीच घुल नहीं पा रही है, मैंनें इसको मासूम लड़की समझ कर मौका दिया था इसकी रैंगिंग भी नहीं की थी.. मगर ये है कि हमारे साथ ठीक से पेश आती ही नहीं, अब तुम ही बताओ कि इसका क्या करें?
वीरू- करना क्या है.. जितना मौका इसको देना था, हमनें दे दियाl अब बस इसकी हार्ड रैंगिंग करनी होगी, ये हमारे ग्रुप के लायक नहीं हैl

सुमन इस हमले के लिए बिल्कुल भी तैयार नहीं थीl उसकी समझ में ही नहीं आया कि ये अचानक क्या हो गयाl
सुमन- ये आप क्या बोल रहे हो.. मैंनें क्या किया? प्लीज़ आप मुझे ऐसे डराओ मतl
संजय- सुमन ये तुम्हें डरा नहीं रहे.. सही बोल रहे हैं तुमनें वादा किया था तुम हम जैसी बिंदास बन जाओगी, मगर अभी तक तुम्हारे अन्दर एक भी बदलाव नहीं आयाl

अब सुमन का क्या होगा.. चलिए सेक्स स्टोरी के अगले पार्ट में देखते हैंl

loading...

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *