loading...

चुत चुदाई की दास्तां-10

Hindi sex story, hindi sex kahani, rialkahani,bhabhi ki chudai

आप भी सोचते होंगे कि ये पिंकी लड़की होकर गंदी कहानी कैसे लिख लेती है. यह तो एक कला है दोस्तो…

कच्ची कली को मसलनें यानि उसकी सील तोड़नें की चर्चा ही कितनी मादक होती है कि साली चुत किसी की भी खुले लेकिन आप लोगों के लंड फड़कनें लगते हैंl इस स्टोरी में अब तक आपनें जाना था कि संजय मोना को अपनी कमसिन भांजी की चुत की पहली रसधार निकलनें के बारे में बता रहा थाl

अब आगे..

संजय- ये हुई ना बात.. वैसे तू भी नहीं भी कहती तो भी मैं उसको चोद ही देता… हा हा हा हा हा..
दोनों ठहाका मार के हंसनें लगे, फिर संजय नें सोचा अभी टीना को घर छोड़ आता हूँ.. कल पूजा के लिए कोई प्लान तैयार करूँगा और वो दोनों वहाँ से निकल गएl

दोस्तो, मज़ा आ रहा है ना.. आप सोच रहे होंगे कि मैं आपको संजय के घर लेकर गई और वहाँ किसी का इंट्रो नहीं दियाl अब ये टीना इतनी रात को बाहर है इसके घर वाले नहीं है क्या.. या फिर ये किसके मकान में दोनों मज़े ले रहे हैंl ऐसे बहुत से सवाल होंगे तो चलो पहले आपके सारे सवालों के जबाव दे देती हूँl

फ्रेंड संजय के घर में उनकी मॉम हैं.. मगर उनका कहानी में कोई खास रोल नहीं है, इसी लिए इंट्रो नहीं दियाl वैसे ही और भी बहुत लोग कहानी में आएँगे मगर कुछ देर के लिए.. तो उनके लिए टाइम वेस्ट करनें से कोई फायदा नहींl आप खुद समझदार हो जब किसी की ज़्यादा जरूरत होगी, मैं बता दूँगी और रही इस मकान की बात.. तो ये कल कॉलेज में आपको पता लग जाएगीl अब हमारी टीना घर से बाहर है उसके बारे में बता देती हूँl

टीना के पापा बहुत पहले गुजर गए थे, अब वो अपनी माँ और एक छोटे भाई के साथ रहती है, उसकी माँ बेचारी बीमार रहती है तो जल्दी सो जाती है और टीना जैसी फास्ट लड़की के लिए रात को घर से निकलना क्या मुश्किल है.. ये आप समझ ही गए होंगेl

आपको बताना चाहती हूँ कि एक और फ्रेंड का मेल आया है कि कहानी की मेन हीरोइन तो सुमन है.. वो कहाँ गायब हो गई है.. और कहानी भी अपनें नाम के मुताबिक नहीं चल रही है तो दोस्तों सब्र करो.. सुमन ही मुख्य किरदार है मगर ये सब छोटी-छोटी कहानियां आपस में जुड़ती चली जाएंगी.. तब असली बात समझ आएगीl

मैंनें शायद आपको ज़्यादा बोर कर दिया, चलो वापस इस सेक्स कहानी हिंदी का मजा लेते हैंl

दोस्तो, इतनी ज़बरदस्त चुदाई के बाद मोना को बहुत अच्छी नींद आ गई.. कोई एक घंटा बाद काका जब वापस आए तो मोना करवट लिए नंगी ही सोई पड़ी थीl
काका- हाय मोना रानी कितनी प्यारी है रे.. तू सोई हुई तो और अच्छी लग रही हैl अब इस लंड का क्या करूँ ये कमीना मानता ही नहीं.. चल एक बार और तेरी मस्त ठुकाई कर देता हूँ, फिर मैं भी सो जाऊंगाl
ऐसे ही बड़बड़ाते हुए काका मोना के पास गए और अपनें लंड को मोना के होंठों पर फिरानें लगेl

मोना नींद में थी.. मगर लंड का अहसास उसको हो रहा था, उसनें हल्के से होंठ खोल दिए, जिससे काका का लंड उसके मुँह में घुस गयाl अब काका धीरे-धीरे मोना के मुँह को चोदनें लगेl थोड़ी देर ऐसा करनें के बाद काका का लंड एकदम कड़क हो गया.. तब वो मोना के पैरों के पास आए और उसकी टांगें फैला कर एक ही झटके में पूरा लंड मोना की चुत में पेल दियाl

दर्द के मारे मोना की नींद हवा हो गई और वो सिसकते हुए बोली- ईईससस्स काका आह.. मार डाला रे आह.. कैसा तगड़ा लंड है, जब भी अन्दर जाता है आह.. मेरी तो जान ही निकाल देता है उफ़ आह..
काका- तेरी चुत भी तो ऐसी ही है, जितना भी चोदो.. ऐसा लगता है पहली बार चोद रहा हूँl ले रानी अब संभाल उह उह..
काका पूरी ताक़त से झटके मारनें लगे और मोना भी गांड उछाल-उछाल कर उनका साथ देनें में लग गईl

काका नें कई मिनट तक अलग-अलग पोज़ बना कर मोना की चुदाई कीl वो ना जानें कितनी बार झड़ी होगी तब कहीं जाकर काका के लंड का लावा फूटाl
उसके बाद काका नें उससे कहा- अब आराम से सोजा.. कल तेरी गांड भी मारनी हैl
मोना- आह.. आ काका… सच्ची आप ना होते तो मेरी ये प्यास कभी ना बुझती! उफ़… चुत का चबूतरा बना दिया आज अपनें अब आप भी सो जाओ और भगवान के लिए सो ही जाना.. वापस मत चढ़ जाना.. अब मेरी बिल्कुल भी चुदवानें की हिम्मत नहीं हैl

यह हिंदी गंदी कहानी आप सेक्स कहानी हिंदी डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!

काका- हा हा हा हा… नहीं आऊंगा रानी तू अब आराम से सो जा!
काका के जानें के बाद मोना नें कपड़े पहनें और सुकून की नींद सो गईl

सुबह सुमन के घर में वही रोज का माहौल थाl सुमन नें आज रेड एंड वाइट कॉम्बिनेंशन पहना था और बाल भी खुले रखे हुए थेl आज वो किसी परी से कम नहीं लग रही थीl
गुलशन- अरे वाह.. क्या बात है मेरी गुड़िया तो आज बहुत प्यारी लग रही हैl
सुमन- थैंक्स पापा, आप भी स्मार्ट लग रहे हो… हा हा हा हा..
गुलशन- चल हट बदमाश कहीं की, अपनें बाप से शरारत करती है.. अब चल जल्दी कर तुझे कॉलेज नहीं जाना क्या?
सुमन- सॉरी पापा आपको बताना भूल गईl मेरी फ्रेंड टीना यहीं पास में रहती है.. आज मैं उसके साथ जाऊंगी, आप जाओl

कल टीना नें जाते टाइम सुमन को बता दिया था कि वो उसके पास ही रहनें आ गई है और कल से कॉलेज साथ ही जाएगीl

गुलशन- ठीक है भाई.. ये अच्छा हुआ अब सीधा अपनी दुकान पर चला जाऊंगाl

गुलशन जी के जानें के बाद सुमन भी घर से निकल गईl आज उसकी गली के लड़के उसको बहुत घूर कर ऐसे देख रहे थे जैसे भोसड़ी के दूर से ही लंड फेंक कर उसकी चुत में डाल देंगेl
उधर सुमन तो अपनी मस्ती में चली जा रही थीl एक लंबी गली पार करके बाहर मेन रोड से दायीं ओर टीना का घर थाl सुमन सीधे उसके घर के पास पहुँच गई और डोरबेल बजाई तो टीना की मॉम बाहर आ गईंl

सुमन- नमस्ते आंटी जीl
गायत्री- अरे आ गई बेटी.. टीना तेरी ही बात कर रही थी अभी.. आजा अन्दर आजा..!

सुमन उनके पीछे घर में चली गईl घर में कुछ खास साजो-सामान नहीं था.. बस नॉर्मल सा घर थाl गायत्री के कहनें पर सुमन सामनें के कमरे में चली गईl
टीना- अरे आओ मेरी प्यारी गुड़िया.. आज क्या बात है बहुत ब्यूटीफुल लग रही होl
सुमन- थैंक्स दीदी.. आप भी बहुत सुंदर लग रही होl

टीना- काहे की सुंदर यार.. आज तो नहाई भी नहीं हूँ.. साले ये पीरियड्स को भी अभी आना थाl
सुमन- हे राम दीदी, धीरे बोलिए, आंटी सुन लेंगीl
टीना- हा हा हा हा तू भी ना एकदम आइटम है यार.. ये तो सब को आते है इसमें शर्माना कैसा? अब तू हमारे ग्रुप की हो गई है.. पता है ना संजय नें क्या कहा था.. बदल जा अब तू.. ओके!
सुमन- ओके दीदी.. जैसा आप कहो अब चलें.. देर हो रही है?

टीना- अरे रुक मेरी जान तुझे यहाँ ऐसे ही थोड़े बुलाया मैंनें.. तू पहले अपना अभी का टास्क तो पूरा कर लेl
सुमन- इस टाइम कैसा टास्क..? हम लेट हो जाएंगे दीदीl
टीना- अरे तू फिर ‘ना’ बोली? चल तू जानें दे, तुझसे कुछ नहीं होगाl अब संजय को मैं साफ-साफ मना कर देती हूँ ओकेl
सुमन- सॉरी दीदी.. मेरा वो मतलब नहीं था हम शाम को कर लेंगे ना!
टीना- शाम का टास्क दूसरा है.. समझी अब करना है या जाना है?
सुमन- करना है दीदी.. जल्दी कहो क्या करूँ?
टीना- ये हुई ना बात.. रुक बताती हूँ तुझे क्या करना है?

टीना नें रूम बंद किया और अपनी अलमारी से एक 7″ का डिल्डो (नकली लंड) निकाला और सुमन के सामनें कर दियाl

सुमन की तो आँखें फटी की फटी रह गईं.. उसनें अपनें हाथ मुँह पे रख लिएl

सुमन- हे राम दीदी ये क्या है.. और आप के पास ये कहाँ से आया?
टीना- अच्छा, तुझे नहीं पता ये क्या है?
सुमन- नहीं दीदी सच में मुझे नहीं पता ये क्या है.. मगर ये तो आदमी के..
टीना- अरे चुप क्यों हो गई बोल बोल.. यही तो तेरा टास्क है.. जल्दी कर लेट अब तू कर रही हैl
सुमन- दीदी मुझे शर्म आ रही हैl

टीना- तुम फिर वही राग अलापनें लगीं.. जल्दी बोलो.. अभी और भी काम बाकी है?
सुमन- ये वो आदमी के ल्ल..ल्लिंग जैसा लग रहा है दीदीl
टीना- गुड अच्छा वैसे तो तू बहुत भोली बनती है.. फिर तुझे इसका कैसे पता लगा?
सुमन- क्या दीदी आप भी ये तो 9वीं क्लास में ही साइन्स की किताब में था.. इसका पिक था और इसके बारे में लिखा भी था, तब से पता हैl
टीना- धत तेरी की.. जानकारी भी ली तो किताबों से.. अरे पगली इसको लिंग नहीं लंड कहते हैं लंड.. समझी!
सुमन- छी दीदी, ये तो सब गाली हैl
टीना- अरे सच्ची इसका यही नाम है.. अच्छा वो सब जानें दे.. इसको हाथ में लेकर देख तुझे कैसा महसूस होता है?

सुमन नें डरते-डरते नकली लंड को ऐसे पकड़ा जैसे वो कोई साँप होl

सुमन- दीदी ये तो रबड़ का है.. कितना डरावना है ना ये!
टीना- वाह भाई वाह.. कोई तो इसको देख के कहता है.. वाउ सो बिग और तुम हो कि इसे डरावना बता रही होl
सुमन- मुझे जैसा फील हुआ मैंनें आपको बता दिया मगर एक बात समझ नहीं आई कि ये लिंग का मॉडल आपके पास कहाँ से आया.. ये तो किसी डॉक्टर के पास या लैब में होना चाहिए?
टीना- अरे मेरी भोली सुमन, कौन सी दुनिया में है तू.. ये मॉडल नहीं डिल्डो है.. इससे लड़कियां चुत की खुजली मिटाती हैंl
सुमन- दीदी आप कितनें गंदे शब्दों का यूज करती हो.. मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा.. आप सिंपल भाषा में समझाओ नाl
टीना- ओह गॉड.. ये लड़की भी ना.. अच्छा छोड़.. ये बता तुम फिंगरिंग करती हो या किसी से सुना होगा.. करना तो तुम्हारे बस का कहाँ है?
सुमन- नहीं दीदी वो क्या होती है.. मुझे नहीं पता!
टीना- ओ माय गॉड, तू सच में पक्की आइटम है.. चल कॉलेज चल देर हो रही है.. ये डिल्डो वाला टास्क शाम को ही करनाl

सुमन बेचारी असमंजस में पड़ गई, वो कुछ बोल भी नहीं पाई और चुपचाप टीना के साथ कॉलेज चली गईl

दोस्तो, आप में से कुछ लोग जरूर कहेंगे ये बकवास है.. आज के जमानें में ऐसा नहीं हो सकता कि किसी को ये भी पता ना हो तो आपको बता दूँ आप की तरह सभी इतनें फास्ट नहीं है और ना ही सब नेंट पर ये सब देखते हैंl मेरी खुद की जानकारी में ऐसी कई लड़कियां हैं जिनको फिंगरिंग का पता ही नहीं हैl लड़की जानें दो.. कुछ लड़के भी हैं जिन्होंनें आज तक मुठ नहीं मारीl भाई ये दुनिया बहुत बड़ी है.. इसमें हर किस्म के इंसान मौजूद हैंl

अब आगे चलो यहाँ क्या ज्ञान ले रहे हो आप लोग.. हा हा हा हा हा हा..

loading...

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *